पथ के साथी

Monday, September 23, 2019

932-हिम्मत हमारी


 रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

1
पता चला कोई मुझसे  क्यों दूर था।
बुरा न सोचा कभी ,इतना कुसूर था।
2
पीठ में खंज़र मारा और  फिर हँस दिए।
दोस्ती का यह सिला कोई आपसे सीखे।
3
आँधियाँ, और लहरें तोड़ती किश्ती
चाहकर हिम्मत हमारी तोड़ ना पाई।
-0-

11 comments:

  1. कटु सत्य कहती रचनाएँ
    सुंदर सृजन हार्दिक शुभकामनाएँ सर

    ReplyDelete
  2. तीर एकदम निशाने पे लगाया है भाई साहब। वास्तविकता दर्शाती सुंदर रचना! आपको बधाई।

    ReplyDelete
  3. उम्दा अभिव्यक्ति... हार्दिक शुभकामनाएँ भाईसाहब।

    ReplyDelete
  4. हृदय से निकली हुयी कुछ बातें जीवन की सत्यता की ओर संकेत करती हैं | "किसी ने ठीक लिखा है कि,"जग सुने न इतना धीरे गा , चुपचाप सुलग बाहर मत आ|| कब किसका दर्द बताया है कोलाहल ने ,यह कहा संन्यासी बादल ने | किस्मत की सोयी रेख जगाना मुश्किल है , इस धरती के अहसान चुकाना मुश्किल है || श्याम -हिन्दी चेतना

    ReplyDelete
  5. कड़वे सच को दर्शाती सुन्दर रचना.... हार्दिक बधाई भैया जी !!

    ReplyDelete
  6. भावपूर्ण अभिव्यक्ति।
    हिम्मत वाली सकारात्मक सबसे सुंदर व प्रेरणादायक।
    नमन आपको।

    भावना सक्सैना

    ReplyDelete
  7. चाह कर हिम्मत हमारी तोड़ ना पाई। बहुत सुंदर । हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर पंक्तियाँ। मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    ReplyDelete
  9. कटु सत्य! दिल को छू गईं सभी रचनाएँ!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  10. सर आपकी पंक्तियों ने मन विचलित कर दिया

    ReplyDelete
  11. सबका बहुत आभारी हूँ।।

    ReplyDelete