पथ के साथी

Monday, July 29, 2019

919


क्षणिकाएँ
1-प्रियंका गुप्ता
1
यादें-
जैसे एक आँच लगी हो उँगली में
और तिलमिला जाए मन;
या फिर
अँधेरे में
लगी हो एक ठोकर
बिन दिखे घाव में
दर्द भयंकर;
तकलीफ़ तो होती है-
है न ?
2
यादें-
जैसे सर्द हवा में
बोनफायर के सामने बैठ
हाथ तापना;
या फिर
किसी रेगिस्तान में 
झुलसने से पहले
नखलिस्तान का मिल जाना;
राहत तो मिलती है-
है न ?
3
अकेलापन
जैसे सीली सी धूप में
गीले कपड़े सुखाना
या फिर
आसमान की नमी को
आँखों में छुपाना;
बहुत देर नमी रहे तो
फफूँदी लग जाती है-
है न ?
4
अकेलापन
जैसे किसी अनजानी कील से
टीसता छिलापन
या फिर
गर्म धूप में भागते हुए
झुलसा पैर;
किसी को समझाओगे कैसे
बहुत दर्द होता है-
है न ?
-0-
2-तुम्हारे लिए
मंजूषा मन

सावन
तुम्हारे लिए
आसान था कह देना
मेरी नौकरी को
दो टकियन की,
पर दो टके की इस नौकरी से
पलते कितने ही पेट
इसी से आती है अम्मा की दवा,
इससे बच्चे जा पाते हैं स्कूल
भले ही होगा लाखों का
तुम्हारा सावन
पर दो टके की न कहो
मेरी नौकरी को।
-0-

21 comments:

  1. प्रियंका जी की क्षणिकाएँ आसमान-सा विस्तार लिए हुए है, बहुत भावपूर्ण, बधाई.
    दो टके की नौकरी न हो तो लाखों का सावन भी मन को खटकता है. बहुत अच्छी रचना, बधाई मंजूषा जी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका जेन्नी जी

      Delete
  2. प्रियंका यादों को अापने बहुत ही प्रभावशाली ढंग से परिभाषित किया है !

    और मंजूषा जी ... अापने तो कमाल ही कर दिया, एक सदियों से प्रचलित बात के विपरीत एकदम अनूठे ढंग से जो बात कही वह बिलकुल सटीक और तर्कसंगत है।

    दोनो ही बहुत सुन्दर रचनाएँ, बधाई हो

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार मंजू जी...

      Delete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. प्रियंका जी यादों के प्रभावशाली चित्रण के साथ अकेलेपन की पीड़ा को बखूबी उभारा है आपने, वाह!!!
    मंजूषा जी ने कल्पना से परे वास्तविक सत्य का उद्घाटन किया है,वाह !बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका सुरँगमा जी

      Delete
  5. भावपूर्ण अभिव्यक्ति...प्रियंका जी। बहुत सुंदर कविता...मंजूषा जी आप दोनों को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जो कृष्णा जी बहुत बहुत आभार

      Delete
  6. बहुत सुंदर रचनाएँ ।प्रियंका जी , मन जी बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आदरणीय सुदर्शन दीदी

      Delete
  7. यादें और अकेलापन एक साथ .....प्रियंका जी बहुत सुंदर मनभावन रचनाएँ
    मंजूषा जी की कविता सच बयाँ करती.....
    प्रियंका जी एवं मंजूषा जी.... हार्दिक बधाइयाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद पूर्वा जी

      Delete
  8. बहुत बहुत आभार आपका रामेश्वर सर.. आपने कविता को सहज साहित्य में प्रकाशन योग्य समझा..

    सादर नमन

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर क्षणिकाएं प्रियंका जी... बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  10. आदरणीय काम्बोज जी का बहुत बहुत आभार जिन्होंने मेरी क्षणिकाओं को यहाँ स्थान देकर मेरा मान बढ़ाया...|
    मंजूषा जी, बहुत सटीक सच्चाई प्रस्तुत की है आपने...| किसी भी पल की सुन्दरता अभावों में महसूस नहीं की जा सकती | हार्दिक बधाई...|

    आप सभी की इतनी प्यारी और उत्साहवर्द्धक टिप्पणियों के लिए दिल से शुक्रिया...|

    ReplyDelete
  11. प्रियंका जी और मंजूषा जी आप दोनों को हार्दिक बधाई अकेलेपन और सावन में नौकरी को उल्हाना देती क्षणिकाएं हैं बहुत सुंदर भाव |

    ReplyDelete
  12. प्रियंका जी अकेलेपन और यादों को आपने खूब समझा है, बहुत बढ़िया!!
    मंजुषा जी,सच कहा आपने। भूखे पेट तो भजन भी न होए! नवीन दृष्टिकोण!!बधाई!

    ReplyDelete
  13. सुंदर क्षणिकाएँ

    ReplyDelete
  14. प्रियंका ने यादों और अकेलेपन को लेकर मार्मिक और नए सुन्दर बिम्ब रचे हैं . क्या बात है . मंजूषा जी ने भी फिल्मी गीत का अलग अन्दाज में बढिया विश्लेषण किया है .

    ReplyDelete