पथ के साथी

Wednesday, October 26, 2022

1254

 इस दीवाली

 शशि पाधा

 

इस दीवाली दीप माल में 

आस की ज्योत जलाना मीता  


हर घर में उजियारा छाए
 

प्रेम की लौ बिखराना मीता 

 

दीपों की लड़ियों में हम- तुम 

धूप किरन को गूँथेंगे

झिलमिल तारों की लड़ियों को 

कंदीलों में बुन लेंगे

 

परहित जलती सूरज -ज्योति 

धरती पर ले आना मीता 

दीप वही जलाना मीता 

 

वैर-द्वेष की लाँघ दीवारें 

मिल-जुल पर्व मनाएँगे

हर देहरी रंगोली होगी 

मंगल- कलश सजाएँगे 

 

नीले अम्बर की बदली से 

नेह गगरी भर लाना मीता 

अँगना में बरसाना मीता 

 

चलो कहीं विश्वास जगाकर 

अधरों पे मुस्कान धरें 

चलो कहीं बाँटें फुलझड़ियाँ 

मिश्री मेवे थाल भरें 

 

आज किसी खाली झोली को 

खुशियों से भर जाना मीता 

ऐसा पर्व मनाना मीता 

-0-

 

4 comments:

  1. वाह! बहुत ही सुंदर रचना।
    हार्दिक बधाई आदरणीया दीदी को।

    दीपोत्सव की अनन्त शुभकामनाएँ!

    सादर

    ReplyDelete
  2. प्रिय शशि जी , आपका " इस दिवाली " गीत , माधुर्य रस से परिपूर्ण है । बहुत बधाई सुन्दर कविता के लिये ।दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ एवं बधाई ।

    ReplyDelete
  3. दिवाली पर रची ख़ूबसूरत कविता ने मन मोह लिया शशि जी। हार्दिक बधाई स्वीकारें। सविता अग्रवाल”सवि”

    ReplyDelete
  4. अतिसुन्दर भाव!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete