पथ के साथी

Monday, June 13, 2022

1217

 रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'


21 comments:

  1. वाह, वाह..अक्षर नही जला करते हैं... बेहतरीन।अभिनन्दन भाई साहब

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर रचना, हार्दिक शुभकामनाएँ सर ।

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन रचना!....अक्षर वाकई अमर होते है, वे मरा नहीं करते। हार्दिक धन्यवाद आदरणीय एक बार फिर यह पढ़ने को मिली।

    ReplyDelete
  4. अक्षर नहीं मरा करते हैं बहुत सुंदर भाव लिए बेहतरीन कविता।। हार्दिक बधाई। सुदर्शन रत्नाकर

    ReplyDelete
  5. akshar nahi mara karte kya sunder bhav hai bhaiya kamal.
    saader
    Rachana

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर। शब्द बोल रहे हैं। हार्दिक बधाई शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर ।

    ReplyDelete
  8. क्या कहूँ.. 😢देश की स्थिति.. संस्कृति पर आपकी लेखनी निस्सृत शब्द... अत्यंत हृदयस्पर्शी हैं 🙏🌹🌹😢

    ReplyDelete
  9. अक्षर नहीं मरा करते हैं
    बहुत ही उत्कृष्ट, हृदयस्पर्शी रचना
    हार्दिक बधाई गुरुवर

    सादर

    ReplyDelete
  10. बहुत ही भावपूर्ण
    सभी रचनाएँ बहुत ही उत्कृष्ट
    शब्द नहीं मिट पाते ... अक्षर नहीं मरा करते ....बहुत ही सही कहा गुरुवर आपने
    आपको नमन एवं बधाई

    ReplyDelete
  11. आप सभी की टिप्पणियों के लिए हृदय से आभारी हूँ।

    ReplyDelete
  12. अक्षरशः सत्य! उत्कृष्ट रचनाएँ! आदरणीय भैया जी एवं उनकी लेखनी को नमन!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  13. अक्षर नहीं जला करते हैं.......बहुत-बहुत ही सुंदर भैया ।हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  14. उत्कृष्ट भावपूर्ण रचनाएँ...हार्दिक बधाई आ. भाईसाहब।

    ReplyDelete
  15. अक्षर नहीं मरा करते,,, बहुत भावपूर्ण सृजन। हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं आदरणीय भाईसाहब जी।
    ---परमजीत कौर 'रीत'

    ReplyDelete
  16. बहुत ही बढ़िया रचना है भई कम्बोज जी । हार्दिक बधाई। … सविता अग्रवाल”सवि”

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर काम्बोज भाई

    ReplyDelete
  18. मन में बसा हुआ नालंदा लाख मिटाओ मिटा न पाते.... कितना भावपूर्ण कितना सटीक. हर भारतवासी की आत्मा की पीर अक्षरों में पिरो कर संजो दी है आपने....शत शत नमन

    ReplyDelete
  19. भाई जी आपने इस रचना में वास्तविकता को साकार कर दिया | हृदय पिघल गया | बहुत ही मार्मिक रचना | बहुत सारी बधाई !श्याम हिंदी चेतना

    ReplyDelete
  20. एक अरसे बाद इतनी सुंदर कविता पढ़ी.....अक्षर नहीं मरा करते हैं। अद्भुत, प्रेरक। मन में विश्वास का संचार करती उत्कृष्ट रचना के लिए बहुत-बहुत बधाई आदरणीय भैया।
    प्रणाम

    ReplyDelete
  21. सचमुच अक्षर मरा नहीं करते, हमारे लिखे अक्षर भाव बनकर मन में उग जाते हैं. अद्भुत कविता. हार्दिक बधाई काम्बोज भैया.

    ReplyDelete