पथ के साथी

Saturday, April 24, 2021

1093- उम्मीद का एक टुकड़ा

 1-डॉ. सुषमा गुप्ता 

 1-हौसला

 


टूटे हुए पत्ते ने

शाख से पूछा-

क्या करू जतन

जो तू फिर से

अपना ले मुझे

बहुत याद आता है

बहारों में तुझ पे झूलना।’

रूखा-सा जवाब आया-

हवा के साथ

कभी शाख से टूटे पत्ते भी

जुड़ा करते हैं

तुझे तो इस मिट्टी में ही

अब है मिलना।’

पत्ता धुन का पक्का

चुपचाप घुला मिट्टी में

जड़ों से तने

तने से शाख में पहुँचा

कि उसे फिर पत्ता बन

इसी शाख से था लिपटना।

कमाल का हौसला था

 अदना -से पत्ते का

 

और कमाल का ही सब्र

उसके हौसले का

लो इंसानों तुम्हें

अब भी रह गया ये सीखना !

-0-

2-हौसलों की आग

 

मैं उजाला हूँ

अँधेरे खा नहीं सकते मुझे

बहुत सदियों से मैं ही अँधेरे

ग्रास करता हूँ।

मुश्किलें तो आती हैं

मुश्किलें तो आएँगी

में कहाँ

प्रकृति के नियम से

इन्कार करता हूँ।

पर एक नियम

विनाश के बाद

सृजन का भी है

अपनी मृत होती रूह में

यूँ जीवन संचार करता हूँ ।

अजर-अमर अजेय


कभी  
अँधेरे हो नहीं सकते

हथेली पर लिये

दीया हिम्मत

इन्हें आह्वान करता हूँ ।

छिन्न-भिन्‍न कर दूँगा

कण-कण को अँधेरे मैं तेरे

तू देख बस

खुद में मैं कैसी

हौसलों की आग रखता हूँ । 

(उम्मीद का टुकड़ा-संग्रह से साभार)

-0-

2- पूनम सैनी

1-नया सफ़र

 


सहर नई
,पंछी वही,

परवाज़ न

सागर- से विशाल हौसले लिये

दीप -सी चमक आँखो में उतारे

झील- से गहरे भाव

कोमल छुईमुई -से मन में पिरोए

आगाज़ कर रहे है

नए सर का

-0-

2-दीप नहीं आशा मेरी

 

दीप नहीं आशा मेरी

कहो कभी बिन बाती के भी

क्या जलते देखा दीप कोई

जब तक बाती तेल रहेंगे

रोशन दीप तभी तो होगा

पर आशा की ज्योति मेरी

बिन ईंधन ही जलती जाए

 

घोर तूफानों  के आगे मैंने

नतमस्तक कब होना सीखा

पर वो आँधी के झोंके सहके

आखिर कब तक जल पाएगा

 

दीपक तेरी लौ छोटी है

सीमाओं में बँधा हुआ तू

क्या क्या रोशन कर पाएगा

आशा हिम्मत की साथी

घोर तिमिर में एक किरण

आशा की ज्योति जब जगती

सूरज भी फीका पड़ जाए

 

लाख तूफानों से घिरी हो

मुमकिन नहीं ये बुझ जाए,

दीप नहीं आशा मेरी

-0-

11 comments:

  1. सच में उम्मीद का टुकड़ा ही हैं ये कविताएँ ... बहुत ही सार्थक सृजन

    ReplyDelete
  2. सार्थक-सकारात्मक सुंदर अभिव्यक्ति।रचनाकार द्वय को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  3. सभी कविताएँ सुंदर!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर कविताएँ,हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  6. दोनो रचनाकारों की कविताएँ इस समय में उम्मीद की किरण बिखेर रही हैं अपने आसपास ही प्रकृति से सीख लेकर इस मुश्किल समय को पीछे ढकेलना है । आप दोनो को हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  7. आज के इस नकारात्मकता से भरे वातावरण में आशा का संचार करती ये कविताएं सराहनीय हैं।

    ReplyDelete
  8. शुक्रिया आप सभी का।🙏

    ReplyDelete
  9. सुषमा जी की दोनों ही कविताओं में हौसला और आत्मविश्वास भरा है।उम्मीद का एक टुकड़ा कविता में पत्ते में भरी प्रेम भावना कविता को बहुत ही सुन्दर रूप दे रहा है।सचमुच आपकी कविताएंँ दिल छूने वाली है।💐

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर रचनाएँ...आप दोनों को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  11. आस बँधाती कविताएँ- बधाई।

    ReplyDelete