पथ के साथी

Thursday, September 5, 2019

927



गुरु का वास
मुकेश बाला

कहता है सारा जहाँ
गुरु बिना ज्ञान कहाँ
ज्योति हृदय में जगा दे
दूर हर डर को भगा दे
गुरु प्रकृति का वरदान 
ये है दूसरा भगवान
जीवन जहाँ से शुरू
माता वो पहला गुरु
कभी पिता का रूप धरे
राह को जो रोशन करे
मिले जब गुरु का ज्ञान
जगत में बढ़े सम्मान
हृदय में हो गुरु का वास
तो खत्म होगी हर तलाश
-0-

7 comments:

  1. गुरु प्रकृति का वरदान/ये है दूसरा भगवान.. गुरु के महत्व को अत्यंत सहज ढंग से व्यक्त करती एक सुंदर कविता के लिये मुकेश बाला जी को बधाई

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर, सत्य को दर्शाती रचना! हार्दिक बधाई मुकेश बाला जी!
    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर रचना ... हार्दिक बधाई मुकेश बाला जी।

    ReplyDelete
  4. मुकेश बाला जी बहुत सुंदर रचना है, सच मे गुरु बिन ज्ञान कहाँ से आये!!आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचना मुकेश जी। हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  6. एक बहुत प्यारी कविता के लिये मुकेश बाला जी को बधाई !!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete