पथ के साथी

Saturday, October 7, 2017

765

समय का समय
 डॉ सुषमा गुप्ता

रात भर वो चेहरा

मेरे हाथों में था...
उसकी आँखों में दिख रही थी
मुझे अपनी उदास आँखें ...
बीते हुए वक्त की राख ...
और
दर्द से उबलते पलों का धुआँ ।
बहुत चाहा मन ने
लौट आए बीता समय
पर
समय का समय बदलना...
आसाँ होता
तो क्या बात थी

एक रोज़
एक ठंडी- सी शाम
जब अचानक चले गए थे तुम..
उस रात मौसम से ज्यादा सर्द
ज़हन था मेरा ..
ठंडा.... ठहरा ...
और लगभग मरा हुआ ।
बहुत महीनों और बहुत सालों
के सूरज ने मिल कर
जद्दोजहद की  ...
तब कहीं कुछ गरमाहट
मेरे वजूद के हिस्से आई ...
पर प्राण  फूँके के नहीं
ये अब भी नहीं पता...
जड़ को चेतन करना
आसाँ होता
तो क्या बात थी

तुमने चाहा था कभी
मेरा
मुझ जैसा न होना...
कुछ ख्वाहिशें जताई थी
और कुछ बंदिशें
जोड़ दी उनके पीछे ....
जैसे यूँ ही आदतन
छोड़ दी जाए थाल में रोटी
तृप्ति के बाद...
कि जो बचा है
लो
वो बस तुम्हारा ....
पर
मन का पेट
बचे टुकड़ों से भरना
आसाँ होता
तो क्या बात थी

मेरे पास कल भी
नहीं थी ..
मेरे पास आज भी
नहीं है ...
वो जादुई स्याही
जो जिंदगी के पन्नों से
सहूलियत से
मिटा दे
आने जाने वाले
खानाबदोशों के
बेतरतीब से लिखे हर्फ़...
और फिर से कोरा कर दे
उसे नई कहानी के लिए ...
काले रंग पे रंग भरना
आसाँ होता
तो क्या बात थी

समय का समय बदलना ....
आसाँ होता
तो क्या बात थी !


-0-

18 comments:

  1. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  2. समय का समय बदलना आसाँ होता तो क्या बात थी । वाह ! बहुत सुन्दर है कविता सुषमा जी ।

    ReplyDelete
  3. सुषमा जी , इतनी गहन बात कह डाली आपने इस कविता में कि अब तक मन तन कांप रहा है । बहुत बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete
  4. वाह, क्याबात है !सुषमा जी |

    ReplyDelete
  5. भावप्रणव कविताएँ । बहुत सुंदर ।बधाई ।

    ReplyDelete
  6. ह्रदयस्पर्शी सृजन के लिए हार्दिके बधाई सुषमा जी ।

    ReplyDelete
  7. वाह सुषमा जी बधाई हो | मन का पेट बचे टुकड़ों से भरना आसान होता तो क्या बात थी ...सुन्दर भाव |

    ReplyDelete
  8. सुषमा जी बधाई हो बहुत ही सुन्दर भाव लिए कविता है |मन का पेट बचे टुकड़ों से भरना आसान होता तो क्या बात थी |

    ReplyDelete
  9. लाजवाब रचना सुषमा जी...हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  10. आप सब का हृदय से आभार

    ReplyDelete
  11. आप सब का हृदय से आभार

    ReplyDelete
  12. बहुत ही भावपूर्ण और दिल को छूने वाली रचना।
    हार्दिक बधाई सुषमा जी

    ReplyDelete
  13. बहुत ही भावपूर्ण और दिल को छूने वाली रचना।
    हार्दिक बधाई सुषमा जी

    ReplyDelete
  14. हार्दिक बधाई सुन्दर रचना हेतु

    ReplyDelete
  15. बहुत भावात्मक रचना है...| मेरी बधाई...|

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  17. मर्मस्पर्शी रचना सुषमा जी ..बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  18. Bahut khub! Bahut bahut badhai.

    ReplyDelete