पथ के साथी

Tuesday, March 28, 2017

720

कविता  ज़िंदगी और मौसम
प्रियंका गुप्ता

बचपन में मैंने
सूरज से दोस्ती की;
जवानी में
चाँदनी रातें मुझे लुभाती रही,
आधी ज़िन्दगी गुज़र गई
मैंने बर्फ़ पड़ते नहीं देखी;
अब
उम्र के इस मोड़ पर
रिश्तों पर पड़ी बर्फ़
पिघलाने के लिए
मुझे फिर
सूरज का इंतज़ार है ।

-0-

13 comments:

  1. बहुत सुन्दर मनोभाव

    ReplyDelete
  2. उत्तम चिन्तन से परिपूर्ण सुंदर कविता

    ReplyDelete
  3. Bahut sundar bhav hain meri shubhkamnayen...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  5. 'फिर सूरज का इंतज़ार है'|सुंदर भाव
    पुष्पा मेहरा

    ReplyDelete
  6. कोमल भाव की बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति |

    ReplyDelete
  7. प्रियंका गुप्ता जी जीवन के तीन रंगों का सुन्दर भाव पूर्ण वर्णन ,बचपन जवानी बुढ़ापा । कम शब्दों मे बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति कर दी है आपने जिन्दगी को मौसम के साथ जोड़कर ।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  11. सूरज, चाँदनी, बर्फ़ प्रतीकों से गहन क्षणिका बनी है।

    ReplyDelete
  12. आप सभी का दिल से आभार...|

    ReplyDelete