पथ के साथी

Friday, October 15, 2021

1145

 काया भंगुर, मृत्यु अटल है

सूर्य कुलश्रेष्ठ


काया भंगुर, मृत्यु अटल है,


जीवन ही संघर्ष पटल है।
कर्म पथ पर जीत न हो,
किंचित भी भयभीत न हो।
अवरोधों से डरना क्या?
समर भूमि में मरना क्या?
साहस रख तू आगे बढ़ ,
कर्मयोगी बन कर तू प्रण।
पुरुषार्थ की ही सिद्धि हो,
तन भले ही मिट्टी हो।
तब श्वासों का कोई मतलब है,
यही मृत्यु पूर्व परमपद है।


-0-

4 comments:

  1. बेहतरीन, हार्दिक शुभकामनाएँ, सूर्य प्रकाश जी ।

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete