पथ के साथी

Sunday, July 12, 2020

1016-काश उसने मुझे समझा होता !


कनिका चतुर्वेदी

काश उसने मुझे समझा होता
ज्यादा नहीं थोड़ा समझा होता
सब कुछ जानक अनजान रहा वो,
काश उसने मुझे समझा होता !

मेरे दिल की उलझन को उसने समझा होता
अगर नहीं समझ रहा है
तो उसने मुझसे पूछा होता
काश उसने मुझे समझा होता !

काश उसने मुझे समझा होता
थोड़ा अपना बताता, थोड़ा मेरी सुनता,
इस रिश्ते को सुन्दर बनाता
काश उसने मुझे समझा होता !

माना की समय नहीं है उसके पास
पर मेरी बाते सुनने को
उसके पास समय होता
काश उसने मुझे समझा होता !

अगर मैं कुछ बोलती उसको
तो मेरी बातों पर ध्यान देता
कोशि करता मुझे समझने की
काश उसने मुझे समझा होता !

जब बाते इतनी बिगड़ गई, 
लगा जैसे सब बदल जागा
तो अपना समय निकाल कर
उसने मुझे समझाया होता
काश उसने मुझे समझा होता !

अगर सच में चाहता वो
ये सब कुछ होने ही न देता
और एक बार प्यार से मुझसे बोलता
कि  आई लाइक यू
काश उसने मुझे समझा होता !

करने लगा हूँ मैं तुमसे प्यार
अब कभी भी न करना दूर जाने की बात
डरता हूँ मैं तुम्हे खोने से
काश उसने मुझे समझाया होता
काश उसने मुझे समझा होता !

एक बार कोशिश तो करता
अपना मुझको मानता अगर
मुझसे बात को करता सही
चाहे समय नहीं उसके पास
पर समय निकलता तो सही
मुझ पर अपना हक रखता
अपना बनाने की कोशिश करता तो सही
काश उसने मुझे समझा होता !

जब सब बिखरने जा रहा
तभी उसने बात की तो होती
बोलता मुझसे न करो ऐसा
मुझसे अलग न हो तुम
अगर ऐसा करना ही था मुझे
तो साथ तुम्हारा मैं क्यों चुनता
काश उसने मुझे समझा होता !

एक बार कॉल लगाता तो सही
एक बार बात करता तो सही
अगर चाहता था वो मुझको
एक कोशिश रोकने की करता तो सही
काश उसने मुझे समझा होता !

फिर चाहे कैसे भी निकले
अपना समय निकालता तो सही
थोड़ी अपनी बोलताथोड़ी मेरी सुनता तो सही 
एक बार और कोशिश करता तो सही

अगर  मुझे वो चाहता है, 
काश वो मुझे समझा होता !
काश वो मुझे समझा होता !!
-0-
शिक्षा: एम कॉम,बी एड(अन्तिम वर्ष)
सम्पर्क:74, चौबे जी का बाग़, फ़िरोज़ाबाद(उ प्र)-283203

24 comments:

  1. काश उसने मुझे समझा होता। सुंदर भावाभिव्यक्ति।पहली कविता की हार्दिक बधाई कनिका। अशेष शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  2. भावपूर्ण अभिव्यक्ति। बधाई व शुभकामनाएँ कनिका।
    भावना सक्सैना

    ReplyDelete
  3. सुन्दर अभिव्यक्ति ।बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ कनिका जी को ।

    ReplyDelete
  4. रिश्तों को बचाने के लिये एक दूसरे की भावनाओं को समझना और संवाद करना आवश्यक है,इस भाव को कनिका चतुर्वेदी ने बड़े ही सहज ढंग से व्यक्त किया है--काश उसने मुझे समझा होता-ये हर हृदय की वेदना है।कनिका जी को बधाई एवम शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी कविता।
    कनिका जी को हार्दिक बधाई
    💐💐

    ReplyDelete
  6. काश और अगर जैसे शब्दों से वियोग का दर्द उभर आता है , श्रृंगार का दूसरा पक्ष अधिक मजबूत होकर प्रकट हुआ है ।
    सुंदर अभिव्यक्ति , बधाई , कनिका जी ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  8. भावपूर्ण सृजन
    हार्दिक बधाइयाँ कनिका जी

    ReplyDelete
  9. सुंदर कविता, बधाई एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...हार्दिक बधाई शुभकामनाएँ कनिका जी।

    ReplyDelete
  11. कनिका जी आपकी कविता बहुत ही सुंदर हैं, इसमें आजकल के युवाओं का दर्द आपने बहुत भावपूर्ण ढंग से बताया है, यह बात बिल्कुल सच है कि संवाद से अधिकतर मामले सुलझ सकते है, पर लोग पहल करने से डरते हैं, आप यूहीं मन के भाव लिखती रहिये, सुंदर रचना के लिए आपको बहुत बहुत बधाई!!

    ReplyDelete
  12. कनिका ! तुम्हारी कविता पढकर आज के युवक समाज की वेदना को जिस प्रकार संबोधित किया है | अत्यंत हृदय स्पर्शी है | हमें तुम पर गर्व है और आशा है की आप इसी प्रकार लिखती रहें | आपके उज्ज्वल भविष्य की कामना करता हूँ | श्याम हिंदी चेतना

    ReplyDelete
  13. कनिका तुमने बहुत खुले मन से भावों की अभिव्यक्ति की है काश तुमने मुझे समझा होता ... यही बात छोटे और बड़े सबके साथ घटित होती है समय समय पर |मेरी ओर से अनेक शुभकामनाएं इस सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए |

    ReplyDelete
  14. भावप्रवण अभिव्यक्ति प्रिय कनिका । रचना में भावों की गहनता है ।‌‌‌ए आत्मीय निवेदन है । खूबसूरत रचना की बधाई । शुभाशीष ।

    ReplyDelete

  15. सुन्दर,भावपूर्ण अभिव्यक्ति...आपको बधाई व शुभकामनाएँ कनिका बेटा.. आपके उजले भविष्य की कामना करती हूँ !

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति...संवाद संबंधो की संजीवनी होते हैं।

    ReplyDelete
  17. काश! कितनी अनबन, कितने विरोधों के बाद भी मन का यह प्रश्न जीवन में बहुत कुछ बदलने और कर गुजरने की इच्छा रखता है ... बहुत ही बेहतरीन लिखा आपने .... बधाई सहित शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  19. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  20. मेरे आदरणीय सर को बहुत बहुत धन्यवाद की उन्होंने मेरी कविता को स्थान दिया | आप हमेशा से मेरी प्रेरणा रहे है आपका आशीर्वाद हमेशा हमारे साथ रहे | आप सभी लोगो का भी धन्यवाद जिन्होंने मेरी कविता को सराहा और मेरा मनोबल बढाया

    ReplyDelete
  21. काश पर जाकर जीवन की कितनी चाहतें दम तोड़ देती हैं. बहुत सुन्दर रचना, बधाई कनिका जी.

    ReplyDelete
  22. मन की कोमल अनुभूतियों को व्यक्त करती इन सुन्दर पंक्तियों के लिए कनिका जी को बहुत बधाई...| लेखन की दुनिया में आपके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएँ...|

    ReplyDelete
  23. इस बेहतरीन लिखावट के लिए हृदय से आभार Appsguruji(सीखे हिंदी में)

    ReplyDelete
  24. बहुत ही उम्दा लिखावट , बहुत ही सुंदर और सटीक तरह से जानकारी दी है आपने ,उम्मीद है आगे भी इसी तरह से बेहतरीन article मिलते रहेंगे Best Whatsapp status 2020 (आप सभी के लिए बेहतरीन शायरी और Whatsapp स्टेटस संग्रह) Janvi Pathak

    ReplyDelete