पथ के साथी

Thursday, May 21, 2020

990-अनुभूतियाँ

प्रीति अग्रवाल
1.
दौर मुश्किल
बड़ी कशमकश हो रही है,
गुनाहों की महफ़िल
सजी दिख रही है।
2.
सोचा था मनमानी
मुद्दतों चलेंगी,
ज़्यादतियाँ तभी
बेशुमार हमने की हैं!
3.
समझा दिया है नन्हे,
नादां-से दिल को,
जब न वो दिन रहे
तो न ये दिन रहेंगे!
4.
माँ, सपना बुरा है
बहुत डर लगा है,
तू सिर पे हाथ फेर
और हमको जगा दे!
5.
जो पूछे कोई
तुम मेरे कौन हो?
हमदर्द, हमज़ुबाँ
हमसफ़र, क्या कहूँ??
6.
वही है वक़्त
उसकी चाल भी वही,
बदला है जो
बस नज़रिया नया है!
7.
कोई हम 'पर' हँसे
या हम 'संग' हँसे,
बस रुलाने का सेहरा
न हमपर बँधे!
8.
शोहरत के पीछे
यूँ न पड़, तू सँभल!
बड़ी बेवफ़ा है,
किसी की न होगी!
9.
आज पुरवाई चुपके से
कानों में कह गई-
तू भी जिंदा है
कुछ पल तो जी भर के जी ले!!

10.
कठपुतली नाचे
ता-थैया ता-थैया,
बस डोर अब सही
हाथों में थमी है!
11.
सोचा बोलने से पहले,
तोल लूँ मैं ज़रा,
पर जाने कुछ कहने को
रहे न रहे!
12.
इबादत कि
इतनी मुद्दत हुई है,
दुआओं का भी
न असर हो रहा है।
13.
शोहरत कमाने की
हसरत सही है,
बदनामी से पर
यारों बात न बनेगी!
14.
ऐ बदरा !
तू कहीं दूर जा बरस,
यहाँ के लिए
मेरे नैना ही हैं काफ़ी!
15
परेशाँ है झूठ
कभी कहे तो कभी पूछे,
मैं सही! मैं सही?
मैं सही! मैं सही?

सच्चाई आराम से
मुस्कुरा रही है,
वो तब भी सही
वो अब भी सही!!
-0-

17 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज गुरुवार 21 मई 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशोदा जी आपके इस सम्मान के लिए मैं बहुत बहुत आभारी हूँ। मैं अवश्य आऊँगी, धन्यवाद।
      सादर
      प्रीति अग्रवाल

      Delete
  2. आदरणीय भाई साहब मेरी रचना को पत्रिका में स्थान दे कर आप जो मेरा मान और मनोबल बढ़ातें हैं उसके लिए बहुत बहुत आभार।

    ReplyDelete
  3. एक से बढ़कर एक रचनाएँ..... बहुत सुंदर अनुभूतियाँ
    हार्दिक शुभकामनाएँ प्रीति जी

    ReplyDelete
  4. अद्भुत लेखन ....
    बहुत ही गहरे एवं भावपूर्ण सृजन

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर अनुभूतियाँ प्रीति जी ।ढेरों बधाइयाँ ।

    ReplyDelete
  6. सुंदर भावपूर्ण अनुभूतियों के सृजन के लिए हार्दिक बधाई प्रीति जी।

    ReplyDelete
  7. पूर्वा जी, सत्या जी, सुरँगमा जी और सुदर्शन जी आप सब का स्नेह मुझे कितनी ऊर्जा देता है, यह शब्दों में कहना बहुत मुश्किल, आप सब का बहुत बहुत आभार!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही ख़ूबसूरत सृजन प्रीति जी,हृदय तल से बधाई !

    ReplyDelete
  9. सोचा था मनमानी
    मुद्दतों चलेंगी,
    ज़्यादतियाँ तभी
    बेशुमार हमने की हैं!
    वाह...एक से बढ़कर एक अनुभूतियों की सार्थक एवम प्रभावी अभिव्यक्ति।बधाई प्रीति जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय शिवजी भैया आपकी सराहना मेरे लिये अत्यन्त महत्वपूर्ण। आपका बहुत बहुत आभार!

      Delete
  10. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ...हार्दिक बधाई प्रीति।

    ReplyDelete
  11. सभी रचनाएँ बहुत उत्तम. बधाई प्रीति जी.

    ReplyDelete
  12. वाह!!!
    लाजवाब सृजन।

    ReplyDelete
  13. ज्योत्स्ना जी, कृष्णा जी, जेन्नी जी और सुधा जी, आपके हृदय तक मेरी आवाज़ पहुँची, मेरे लिए बड़े हर्ष की बात है। बहुत बहुत शुक्रिया!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर भाव है प्रीति आपके लेखन में सभी अनुभूतियाँ पसंद आयीं विशेषकर ...७ ,१४ अत्यधिक मन भाये |आपको हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सविता जी।

      Delete