पथ के साथी

Thursday, April 9, 2020

969


प्रीति अग्रवाल ‘अनुजा’( कैनेडा)
1.
फ़िलहाल तो ख़्वाबों पर पहरे नहीं हैं
तुमने आना- जाना  क्यों कम कर दिया है?
2.
हमने हाल अपना, ज़रा हँसके क्या टाला
तमाशे का ज़माने को, सामाँ मिल गया है!
3.
बहरहाल न शिकवा कोई, और न ही गिला है
बस, हाल कहते जिससे, वो शख़्स न मिला है!
4.
मेरे हाल पे अश्क बहाने वालो !
मगरमच्छ भी तुमसे हैं तौबा करते!
5.
एक ही बोली में बरसों बतियाए
न तुम हमें समझे, न हम ही समझ पाए!
6.
मीलों चले तन्हा, न थके न ऊबे
दो कदम तुम्हारे साथ, दुश्वार हो गए!
7.
मेरे हमदम, तेरा साथ था कितना मुबारक
र तय हुआ कब, खबर ही नहीं!
8.
जब भी चाहो, चुपचाप चले जाना
तुम्हारे कदमों की आहट से मैं जान लूँगी !
9.
खिड़कियों में न झाँकके, दिलों में झाँका होता
ज़माने का जो हाल है, वो हाल फिर न होता!
10.
इन किनारों का मुक्कदर भी हमारा-सा है
साथ चल तो पड़े, पर मिलेंगें नहीं।
11.
ये जो तुम बिन कहे, मेरी बात समझ जाते हो
लगता है, मुझसे ज्यादा, मुझ से वाक़िफ़ हो!
12.( दोहा )
'मैं, मेरा, मुझको' यही, रटन लगी दिन रात
आठ पहर कुल थे मिले, बीत गए हैं सात!!
-0-
2- दोहे
सविता अग्रवाल 'सवि', कैनेडा
1
कोरोना है चल रहा, टेढ़ी गति की चाल
घर बैठा मानव डरा, मिली न अब तक ढाल ।।
2
दानव- सी आकर  खड़ी, कोरोना की पीर ।
विपदा की कैसी घड़ी, तरकश में ना तीर ।।
कोरोना घातक बना, छाया है कुहराम 
मन ही मन सब भज रहे, ईश्वर का ही नाम ।।
4
जग सारा भयभीत हैबीमारी की मार ।
घर के अन्दर क़ैद हैं, होकरके लाचार ।।
5
छेड़-छाड़ तुम ना करोकरो प्रकृति का मान ।
तोड़ोगे जो रीत तो, टूटेगा अभिमान ।।  
-0-

10 comments:

  1. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  2. वाह बेहतरीन सृजन ...

    ReplyDelete
  3. आदरणीय भाई साहब, मेरी अनुभूतियों को सब तक पहुँचाने के लिए आपका बहुत बहुत आभार!
    सविता जी बहुत ही सामयिक और सुंदर दोहे, बड़ा आनन्द आया, आपको बधाई !

    ReplyDelete
  4. अतिसुन्दर एवं भावपूर्ण अनुभूतियाँ तथा दोहे!
    हार्दिक बधाई प्रीति जी व सविता जी!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया सृजन...प्रीति जी, सविता जी हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  6. सभी अनुभूतियाँ और दोहे एक से बढ़कर एक सुन्दर और भावपूर्ण. हार्दिक बधाई प्रीति जी एवं सविता जी.

    ReplyDelete
  7. ओंकार जी,सदा जी,अनिता जी,कृष्णा जी एवं जेन्नी जी, आपका प्रोत्साहन मेरी लेखनी को बल देता है, आप सभी का हार्दिक धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  8. सर्वप्रथम भाई काम्बोज जी को मेरे दोहों को यहाँ स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद | प्रीति द्वारा रचित अनुभूतियाँ और दोहा अत्यधिक सुन्दर भाव संजोये हुए हैं
    उसके लिए उन्हें हार्दिक बधाई | ओंकार जी, सदा जी, प्रीति, अनिता जी, जेन्नी जी, कृष्णा जी आप सभी का बहुत बहुत आभार यूँ ही प्रोत्साहित करते रहिये |

    ReplyDelete
  9. प्रीतिजी बहुत सुंदर ,रोचक,मनभावन अनुभूतियाँ ।बधाई

    सामयिक ,सुंदर दोहों की रचना के लिए बधाई सविता जी

    ReplyDelete
  10. स्नेह के लिए धन्यवाद सविता जी, सुदर्शन जी , मुझे बहुत खुशी हुई कि आप दिनों को मेरी रचना पसन्द आई!

    ReplyDelete