पथ के साथी

Thursday, April 25, 2019

896


स्वाति शर्मा

सिर्फ दाँत दिखाना ही ज़रूरी नहीं
मुस्कुराने के लिए
मन की प्रसन्नता भी ज़रूरी है
मुस्कुराने के लिए
अपनों का साथ ज़रूरी है
मुस्कुराने के लिए
उनके प्यार की सौगात ज़रूरी है
मुस्कुराने के लिए
दो वक्त का खाना ज़रूरी है
मुस्कुराने के लिए
मेहमानों का आना भी ज़रूरी है
मुस्कुराने के लिए
दोस्तों का साथ होना ज़रूरी है
मुस्कुराने के लिए
पुरानी तस्वीरें हाथ में होना ज़रूरी है
मुस्कुराने के लिए
प्रभु की भक्ति भी ज़रूरी है
मुस्कुराने के लिए
मन में इच्छा शक्ति ज़रूरी है
मुस्कुराने के लिए
-0-

5 comments:

  1. बहुत अच्छी रचना है...बहुत बधाई...|

    ReplyDelete
  2. सही कहा, इच्छाशक्ति जरूरी है। सुंदर कविता

    भावना सक्सैना

    ReplyDelete
  3. प्रभु की भक्ति भी ज़रूरी है
    मुस्कुराने के लिए
    मन में इच्छा शक्ति ज़रूरी है
    मुस्कुराने के लिए
    sahi kha aapne
    badhayi
    rachana

    ReplyDelete
  4. बहुत प्यारी रचना है...बहुत बधाई आपको!

    ReplyDelete