पथ के साथी

Thursday, September 8, 2022

1243

 

1-दोहे- रश्मि विभा त्रिपाठी

1

मन की वीणा पे हुआ, स्वत्व तुम्हारा मीत।

धड़कन में तुम गूँजते, बनकरके संगीत।। 

2

जोड़ दिया तप से सदा, मन का टूटा तार।

मेरी साँसों का तभी , बजने लगा सितार।।

3

पढ़ लेते इक साँस में, इन होठों का मौन।

सच बतलाओ आज ये, आखिर तुम हो कौन।।

4

तुम्हें जुबानी याद है, मेरा सारा हाल।

भाव तुम्हारे हो गए, अब गुदड़ी के लाल।।

5

जीवन में अब क्या बचा, टूट गई हर आस।

साँस तुम्हीं पर ही टिकी, तुम रखना विश्वास।।

6

नीरवता में हास का, बज उठता है  साज।

जिस पल आकर तुम मुझे, देते हो आवाज।।

7

तुमने समझाया मुझे, जीवन का यह मूल।

मौसम ने डपटा बहुत, डरा न खिलता फूल।।

8

बड़े बेतुके लग रहे, राहों के ये शूल।

मेरे गजरे में गुँथे, आशीषों के फूल।।

9

प्रियवर तुम जीते रहो, खिलो सदा ज्यों फूल।

जग- जंगल में ना चुभे, तुमको कोई शूल।।

10

पता नहीं कैसी खिली, अब दुनिया में धूप।

पलक झपकते बदल रहा, सब रिश्तों का रूप।।

11

जग- जंगल में मैं चलूँ, पकड़े तेरा हाथ।

विपदा दम भर रोक ले, छोड़ूँगी ना साथ।।

-0-

2-कपिल कुमार

1

ठण्डी-ठण्डी पवनें

धीरे-धीरे गिरतीं

बारिश की बूँदें

टपरी पर चाय पीते लोग 

हाथ में सिगरेट थामें

चौराहे से गुजरते

प्रेमी जोड़े

हवा में हाथ फैलाते

जोर-जोर से चिल्लाते

"वाह! मौसम" 

वही दूसरी ओर

एक दम्पती

जिसका अठारह-उन्नीस वर्ष का

नौजवान लड़का

उसी चौराहे पर

सड़क दुर्घटना में मारा गया है।

उनके लिए

बारिश की बूँदें

मानो

शरीर पर गिरते अंगारे,

ठण्डी-ठण्डी पवन

ज्येष्ठ की लू। 

2

मौन! 

किसलिए साधा है

यदि तुम अनभिज्ञ हो

तुम्हें उत्सुक होना चाहिए

अंतर ढूँढने में

क्या अंतर है

मूक रहने

और

मूकबधिर होने में। 

3

मेरी सोचो

कितने दिन लगाए

हिम्मत जुटाने में

तुम्हें तो बस

प्रेम-प्रस्ताव पर

हाँ! कहना है। 

4

दफ़्तर के ज्यादातर

हुनरमंद कर्मचारी

जकड़े हुए मिले

दासता की बेड़ियों में

उनका

गलत और सही का

तार्किक निर्णय

दबा हुआ है

वेतनमान

प्रलोभन राशि के

मलबे तले। 

8 comments:

  1. कपिल सर की कविताएँ बहुत ही बेहतरीन लगी🙏

    विभा जी दोहे भी बहुत बढ़िया👌💐

    मेरी शुभकामनाएँ 🙏

    ReplyDelete
  2. विभा जी के दोहे बहुत सुंदर हैं।कपिल जी की कविताएँ प्रभावी जान प्रथम कविता में पवनें शब्द खटकता है।

    ReplyDelete
  3. मेरे दोहे प्रकाशित करने हेतु आदरणीय सम्पादक जी की हृदय तल से आभारी हूँ। ।
    आदरणीय शिव जी श्रीवास्तव जी और आदरणीया नन्दा पाण्डेय जी का हार्दिक आभार।

    सादर

    ReplyDelete
  4. आदरणीय कपिल कुमार जी की बहुत सुंदर रचनाएँ।
    हार्दिक बधाई।

    सादर

    ReplyDelete
  5. अत्यंत सुंदर सृजन... 🌹 दोनों लेखनी सार्थक सृजन में निपुण हैं.... 🌹🙏

    ReplyDelete
  6. विभा रश्मि जी के दोहे और कपिल जी की रचनाएँ बहुत सुंदर। आप दोनों को बहुत -बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  7. सुंदर दोहे और कविताएं! शुभकामनाएँ!!

    ReplyDelete
  8. कपिल जी की कविताएँ बहुत सुन्दर । रश्मि विभा जी के मनभावन दोहे । दोनों रचनाकारों को मुबारकबाद ।

    ReplyDelete