पथ के साथी

Wednesday, June 30, 2021

1122- कविताएँ

 भीकम सिंह 

 1-नदी 

 

आज देखो फिर 

वो -

बादल ओढे 

छप छप करती 

कल-कल बहका

 

एक नदी 

वादों से भागे 

रोज मेरे आगे 

नया-सा मोड़ 

काटने आए 

-0-

 

2-चाँ 

 

छू के आँखों को

जो छिपा गया 

काश !

बादल हटाके 

धरा पे उतर आ

 

क्यों रोज

बत्तियाँ बुझाते ही

वो ताकने 

मुँडेरें  -

फाँदकर आ

-0-

 3-विषमता 

 

सोच में है 

और कुछ 

पहुँच में है 

और कुछ 

 

सबको 

कुछ-कुछ 

और

कुछ को सब कुछ 

 

ये विषमता 

सरकारें करती 

 सिसकियों में रहता 

श्रम का सब कुछ 

-0-

 4-सावन

 

मन करे 

प्रश्न कई 

सावन आना-कानी ।

 

आसक्ति 

और विरक्ति में 

यूँ होती खींचातानी ।

 

अपने पर

काबू रखने की 

सीमा किसने जानी 

-0-

5-धरा -1

 

पता है उसे 

कि अनचाहे लोग 

थम जाने तक

उसका -

करते रहेंगे भोग

इसी अफसोस में 

गति मान है 

धरा 

-0-

 6-धरा-2

 

अपने हिस्से का सूरज 

जो विदाई में लाई थीधरा 

उसका सर्वांश 

तैरते नक्षत्रों

उल्का पिंडों में 

बांट आयी 

और उठा लिया 

फिर मुँह 

सूरज की ओर

पुत्री जानती है -

पिता की 

दरियादिली का छोर 

 -0-

 7-सिवाना 

 

सिवानों पे 

पहुँचे हैं गाँव 

खेत-खलिहानों के 

लगा कर पाँव 

 

घर आंगन 

चूल्हा-चौका 

बर्तन झाडू और पौंछा 

साथ गई नीम की छाँव 

 

संदर्भ सभी 

पुराने घर में 

दादा-दादी भी मुश्किल में 

करते रहते काँव-काँ 

12 comments:

  1. बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर भावपूर्ण लघु कविताएँ। बधाई आपको।

    ReplyDelete
  3. सुंदर कविताएँ।बधाई आपको।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुंदर और बेहतरीन कविताएँ 💐💐
    हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर उम्दा कविताएँ...हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर और रोचक अभिव्यक्ति से परिपूर्ण आपकी रचनाएं | हृदय को स्पर्श कर गयीं |सरल भाषा में बहुत गम्भीर विचार देने वाली | श्याम हिंदी चेतना

    ReplyDelete
  7. सुंदर कविताएं, हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर, ह्रदयस्पर्शी रचनाएँ।
    हार्दिक बधाई आदरणीय।

    सादर

    ReplyDelete

  9. बहुत सुन्दर व भावपूर्ण रचनाएँ।
    हार्दिक बधाई आपको आदरणीय भीकम सिंह जी।🙏🏼

    ReplyDelete
  10. भीकम सिंह जी की सभी कविताओं में भावों की सुंदर अभिव्यक्ति है ।मन करे प्रश्न कई सावन आना कानी …. अत्यधिक पसंद आई। हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  11. मन के भावों को अभिव्यक्त करती सुन्दर कविताओं के लिए बहुत बधाई

    ReplyDelete
  12. आप सभी का धन्यवाद, आभार ।

    ReplyDelete