पथ के साथी

Saturday, June 19, 2021

1120-उसने कहा

 रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'









18 comments:

  1. बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता। सच में हर मुस्कान के पीछे दर्द की एक नदी बहती है

    ReplyDelete
  2. दुख सहने के लिए होते हैं, दुखी होने के लिए नहीं, यह समझ आने तलक ज़िंदगी गुज़र जाती है, बिना मुस्कुराए ही, जिसने मर्म को जान लिया , वही जीया। हार्दिक बधाई सुंदर कविता की आदरणीय।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर,भावों की कोमलता सुकुमारता और पावनता को बहुत ही खूबसूरत ढंग से प्रस्तुत किया आपने, अनेक बधाई भैया💐😊🙏

    ReplyDelete
  4. बहुत भावपूर्ण, मार्मिक अभिव्यक्ति। हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं आदरणीय भाईसाहब जी।

    ReplyDelete
  5. बहुत भावपूर्ण बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...हार्दिक बधाई भाईसाहब।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही मार्मिक,गम्भीर अर्थ व्यंजक कविता।सादर नमन।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर, भावपूर्ण कविता! हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  10. बिंब और प्रतीकों को उभरारने का हुनर किसी ओर को भी सिखा दो सर , बेहतरीन से थोड़ा ऊपर ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर मार्मिक कविता, धन्यवाद भाई साहब!!

    ReplyDelete
  12. सच कहा जो जितने जोर से हँसता है वह उतना ही अंदर से दुखी होता है ।

    ReplyDelete
  13. मार्मिक कविता

    ReplyDelete
  14. वही दूसरों की खुशी का ख्याल रखता है । जिसने दुख जिया हो....
    बहुत ही लाजवाब हृदयस्पर्शी सृजन

    ReplyDelete
  15. उसकी हर हँसी की खनक में
    दर्द की नदी दबी पड़ी थी

    गहन भाव लिए, संवेदना में पगी अत्यंत भावपूर्ण और मार्मिक रचना। लाजवाब कविता

    ReplyDelete
  16. आप सबका हृदय से आभार । काम्बोज

    ReplyDelete
  17. दिल को छू लेने वाली रचना...
    हार्दिक शुभकामनाएँ स्वीकार करें

    ReplyDelete
  18. बहुत मार्मिक रचना भैया जी, हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete