पथ के साथी

Saturday, February 20, 2021

1052-माँ प्रतिपल सोचती

 माँ प्रतिपल सोचती

रश्मि विभा त्रिपाठी 'रिशू'

 

मेरी माँ 


आत्मनिर्भर होकर भी

निर्भर रही पिता पर
जीवन भर
मगर स्वेच्छा से
पिता ने विवशता की डोर से
कभी नहीं बाँधा उन्हें
और न ही
पूर्वाग्रह की बेड़ियाँ
माँ के सुकोमल पाँव में
बाँधकर रखीं
माँ कैद में नहीं रही
वह तो केवल इस भाव से
रजत पायल भेंट करते थे उन्हें
कि स्त्री का अधिकार
है साज शृंगार
पिता ने बाध्य नहीं किया
कि आँचल की गिरफ्त में रहो
वह बरस पड़ते थे
जब भी कोई गरजता-
तुम औरत हो परदे में रहो
समाज के आगे हरदम
झुक कर चलो
पिता ने हर बार टोका
माँ को राह चलते-
जिंदा रहना है
तो सर उठा कर जियो
वह स्वत: ही ओढ़कर जाती
हमेशा चौखट के बाहर
खोखली रुढ़ियों की चादर
सुशिक्षित होकर
एक शिक्षिका होकर
विद्या के मंदिर में
नन्हे- मुन्नों की हथेलियों में
रखा प्रसाद बेशक
उन्होंने विदेशी भाषा का
जो कि देश ने अनिवार्य समझा
भावी विकास के लिए
मगर
पाश्चात्य संस्कृति के रंग में
माँ ने स्वयं को कदापि नहीं रँगा
भारतीय सभ्यता में
रची-बसी माँ
घूँघट में ही रही
घरेलू बनकर
पिता ने उनकी आँखों पे
गान्धारी-सम पट्टी नहीं रखी
वह चाहते थे माँ
सृष्टि का सम्पूर्ण रूप निहारे
भर ले बाहों में आकाश
अपने पंख पसारे
पिता अब दूसरी दुनिया में हैं
और मेरी माँ
घर की दहलीज के भीतर जी रही है
समाज के प्रावधानों के अनुरूप
वैधव्य जीवन एकांतवास में
सुख-सुविधा
उत्सव उल्लास
समारोहों से कोसों दूर
कष्टमय एकाकी पलों के बीच
उम्र के आखिरी छोर पर बैठी माँ
प्रतिपल सोचती है
पिता के बारे में
उनके लि
ईश्वर से
अंतिम वर माँगती
जन्मों तक पति रूप में
उनका ही वरण वो चाहती
क्योंकि एकमात्र
वो ही थे सच्चे पुरुष
पिता ने आजीवन माँ को
अपनी तरह ही माना
हं को अपने आड़े नहीं लाये
स्त्री के अस्तित्व को सदा रहे वो सर उठा

-0-

18 comments:

  1. रश्मि जी बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता। बधाई आपको

    ReplyDelete
  2. एक माँ की कहानी, बिटिया की जुबानी।वाह।

    ReplyDelete
  3. रश्मि जी स्त्री पुरुष के जीवन में ताल-मेल बैठाती और माँ के प्रति आपके ममता में भीगे भावों से युक्त , कविता मनमोहक लगी हार्दिक बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर भावुक कर देने वाली कविता, रश्मि जी बहुत बधाई आपको💐💐👌👌💐💐

    ReplyDelete
  5. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (२१-०२-२०२१) को 'दो घरों की चिराग होती हैं बेटियाँ' (चर्चा अंक- ३९८४) पर भी होगी।

    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  6. इस दुनिया की संपूर्णता सिर्फ माँ में रचती-बसती है,यही भाव आपकी इस रचना में शब्दांकित है। बधाई।

    ReplyDelete
  7. एक अच्छे और सच्चे सम्बन्ध की सुंदर अभिव्यक्ति, रश्मि जी को बधाई!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर एवँ भावपूर्ण कविता रश्मि जी । हार्दिक बधाई आपको।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  10. बहुत बहुत सुन्दर रचना है मैम।आपको दिल से बधाई।��

    ReplyDelete
  11. भावपूर्ण कविता । बहुत बधाई

    ReplyDelete
  12. सुन्दर अभिव्यक्ति !!
    स्त्री विमर्श पर रची गई रचनाओं से अलग हटकर स्त्री सम्मान के लिए बेहतरीन भाव|
    बधाई रश्मि जी !!

    ReplyDelete
  13. पिता ने आजीवन माँ को
    अपनी तरह ही माना
    अहं को अपने आड़े नहीं लाये
    स्त्री के अस्तित्व को सदा रहे वो सर उठाए।

    हर स्त्री ऐसा ही जीवन साथी पाने की कामना करती है। माँ के माध्यम से बहुत बड़ी बात कह गई आप,लाज़बाब सृजन
    सादर नमन आपका

    ReplyDelete

  14. बहुत भावपूर्ण रचना...हार्दिक बधाई रश्मि जी।

    ReplyDelete
  15. हृदय स्पर्शी सृजन।
    एक सच्चे पुरुष का सही स्वरूप।
    एक स्त्री का स्वयं ही वर्जनाएं चुनना,और समाज का वो ही पोंगा पंथी ढ़ंग । सब-कुछ बहुत सुंदर ढंग से शब्दों में ढ़ाला है आपने।
    सुंदर सृजन।

    ReplyDelete
  16. हृदय स्पर्शी रचना रश्मि जी

    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  17. मेरी रचना प्रकाशित करने हेतु सम्पादक जी का हार्दिक आभार एवं मेरी रचना को पसंद करने के लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय।

    सादर-
    रश्मि विभा त्रिपाठी 'रिशू'

    ReplyDelete