पथ के साथी

Sunday, March 8, 2020

959-असाधारण स्त्री-माया एंजेलो / अनुवाद: डॉ. कुँवर दिनेश सिंह


11 comments:

  1. सुंदर प्रस्तुति। आभार.

    ReplyDelete
  2. वाह....मैं स्त्री हूँ/सबसे अलग हटकर/असाधारण सी....सशक्त कविता सुंदर अनुवाद।

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब।
    --
    रंगों के महापर्व
    होली की बधाई हो।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर ,सशक्त कविता। बढ़िया अनुवाद के लिए डॉ.कुँअर दिनेश सिंह जी को हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  6. सुंदर कविता...
    सुंदर अनुवाद के लिए दिनेश जी को शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  7. सुंदर कविता को चार चाँद लगाता सुंदर अनुवाद। बधाई स्वीकारें दिनेश जी!

    ReplyDelete
  8. अद्भुत कविता ....
    बाहर ही उत्कृष्ट 👌👌

    ReplyDelete
  9. सशक्त कविता।
    उम्दा अनुवाद हेतु डॉ. कुँअर दिनेश जी को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर भावों से पूर्ण कविता है, और उन भावों की गरिमा को बनाए रखा है अनुवाद द्वारा डॉ कुंवर दिनेश जी ने | हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  11. डॉ. कुँवर दिनेशसिंह18 March, 2020 22:25

    सभी विद्वज्ज्नों का हार्दिक आभार!

    ReplyDelete