पथ के साथी

Saturday, March 23, 2019

885


इंसान पेड़ नहीं बन सकता कभी
रश्मि शर्मा

पेड़ अपने बदन से 
गिरा देता है 
एक-एक कर सारी पत्तियाँ
फिर खड़ा रहता है 
निस्संग
सब छोड़ देने का अपना सुख है
जैसे
इंसान छोड़ता जाता है
पुराने रिश्ते-नाते
तोड़कर निकल आता है
उन तन्तुओं को
जिनके उगने, फलने, फूलने तक
जीवन के कई-कई वर्ष
ख़र्च किए थे
पर आना पड़ता है बाहर
कई बार ठूँठ की तरह भी
जीना होता है
मोह के धागे खोलना
बड़ा कठिन है
उससे भी अधिक मुश्किल है
एक- एककर
सभी उम्मीदों और आदतों को
त्यागना
समय के साथ
उग आती है नन्ही कोंपलें
पेड़ हरा-भरा हो जाता है
पर आदमी का मन
उर्वर नहीं ऐसा
भीतर की खरोंचें
ताज़ा लगती है हमेशा
इंसान पेड़ नहीं बन सकता कभी।

-0-

12 comments:

  1. बहुत सुंदर। सच में विचारणीय ।बधाई रश्मि जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर रचना...बधाई रश्मि जी।

    ReplyDelete

  3. जीवन के कटु यथार्थ को वृक्ष के माध्यम से अभिव्यक्त करती एक सशक्त रचना।बधाई रश्मि जी

    ReplyDelete
  4. रश्मी जी आपने पेड़ से मनुष्य की तुलना करके मरी आँखें खोल दी हैं | क्या कल्पना है ! कितने सन्दर शदों से आपने जीवन की वास्तविकता बता दी | पहली बार इतनी भ्व्पूर्ण रचना देखने को मिली | रश्मी जी आपको बहुत सारी बधाई और शुभकामनाएं | श्याम त्रिपाठी -हिन्दी चेतना

    ReplyDelete
  5. बहुत ही उम्दा सृजन हार्दिक बधाई रश्मि जी

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. इंसान कभी पेड़ नहीं बन सकता..
    बहुत ही खूब .... बहुत ही सुन्दर रचना ....

    ReplyDelete
  8. वाह रश्मि जी मनुष्य और पेड़ का अंतर बहुत सुन्दर शब्दों में कविता बद्ध किया है बहुत सुन्दर सृजन है हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete

  9. बहुत सुंदर रचना है....हार्दिक बधाई रश्मि जी।

    ReplyDelete
  10. सच बयान करती अत्यंत ख़ूबसूरत रचना। इंसान कभी पेड़ नहीं बन सकता... सच है!
    हार्दिक बधाई रश्मि जी!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर...हार्दिक बधाई रश्मि जी

    ReplyDelete