पथ के साथी

Saturday, September 8, 2018

844



नदी के आगोश में
डॉ कविता भट्ट
1
लिपटा वहीं
घुँघराली लटों में
मन निश्छल,
चाँद झुरमुटों में
न भावे जग-छल ।
 2
चित्र :रमेश गौतम 
ढला बादल
नदी के आगोश में
हुआ पागल
लिये बाँहों में वह
प्रेमिका -सी सोई।
3
मन वैरागी
निकट रह तेरे
राग अलापे,
सिंदूरी सपने ले
बुने प्रीत के धागे।
4
मन मगन
नाचता मीरा बन
इकतारे -सा
बज रहा जीवन
प्रीत नन्द नन्दन!
5
रवि -सी तपी
गगन पथ  लम्बा
ये प्रेमपथ ,
है बहुत कठिन
तेरा अभिनन्दन!

6 comments:

  1. सुंदर रचनाएँ कविता जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर सृजन कविता जी
    हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  3. हार्दिक आभार अनिता जी एवं सत्या जी।

    ReplyDelete
  4. Bahut sundar bahut bahut badhai

    ReplyDelete
  5. हार्दिक आभार डॉ भावना जी।

    ReplyDelete
  6. कविता जी, बहुत प्यारा लिखा है आपने...| मेरी बधाई स्वीकारें...|

    ReplyDelete