पथ के साथी

Thursday, October 29, 2015

बेचारा एकाकी मन




शशि पाधा
परदेसी मन

       पता ठिकाना पूछता
       जड़ें पुरानी ढूँढता
        घूम रहा परदेसी मन ।
काकी, चाची, मामा,मौसा
एक गली का इक परिवार
बीच सजा वो चाट खोमचा
आस पास बसता संसार
    रोज़ हवा को सूँघता
    खुश्बू वो ही ढूँढता
    तड़प रहा परदेसी मन ।
जुड़ी- सटी सब छत मुँडेरें
रात आधी की कथा कहानी
खाट दरी बस चादर तकिया
मिट्टी की सुराही पानी
        यादों में ही झूमता
        छत वही फिर ढूँढता
       पछताया परदेसी मन ।
दोपहरी की धूप गुनगुनी
आँगन तकिया लंबी तान
पके रसोई चाय पकौड़ी
सर्दी से तब बचते प्राण
     उनींदा -सा ऊँघता
     हरी चटाई ढूँढता
   पगला -सा परदेसी मन ।

संग मनाए मेले- ठेले
चौगानों में तीज त्योहार
आपस में बाँटे थे कितने
चूड़ी रिब्बन के उपहार
       बिन झूले के झूलता
       ठाँव वही फिर ढूँढता
       बेचारा एकाकी मन
-0-
2-सपना मांगलिक
दोहे
1
उर में गहरा जख्म हो ,दवा न दे आराम
प्रेम पगे दो बोल ही ,करें दवा का काम
2
खून आज का हो रहा ,लोहे से भी गर्म
नहीं कद्र माँ बाप की ,खोई नैना शर्म
3
मन्दिर मस्जिद चर्च में ,ढूंढा चारों धाम
जो मन खोजा आपना ,मिले वहीं पर राम
4
चूसत खून गरीब का ,नेता भरते कोष
गंगाजल से कब भला ,धुलते उनके दोष
5
मानुष जो न कभी करे ,सही गलत में भेद
जीवन चूहे सा जिये, करे न कोई खेद
6
धरते- धरते आस को ,बीती जीवन- शाम     
लग जाए कब क्या पता, इन पर पूर्ण विराम
7
बातों से लौटें नहीं ,काले धन का कोष
जनता भूखी मर रही ,फ़ैल रहा आक्रोश
8
नेता फिर दिखला रहे ,जनता को अंगूर
समझें सब इस चाल को ,करें नहीं मंजूर
-0-

15 comments:

  1. शशि जी भावपूर्ण गीत के लिए बधाई।
    सपना जी यथार्थपूर्ण दोहे अच्छे हैं। बधाई।

    ReplyDelete
  2. शशि जी भावपूर्ण गीत बधाई!!

    ReplyDelete
  3. भावपूर्ण गीत; यथार्थपूर्ण दोहे ! शशि जी, सपना जी - बधाई।

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण गीत; यथार्थपूर्ण दोहे ! शशि जी, सपना जी - बधाई।

    ReplyDelete
  5. शशि जी सुन्दर भाव गीत लिखा है सच मन बार बार वही छत ढूंढता है | सपना जी आप ने भी दोहों की सुन्दर रचना की है |आप दोनों को हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  6. शशि जी दिल को छूने वाली कविता हेतु बधाई , सपना जी के दोहे भी अच्छे लिखे हैं बधाई |
    पुष्पा मेहरा

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. मेरे प्रवासी मन की अनुभूति को आप सब ने सराहा , हार्दिक आभार | धन्यवाद भैया काम्बोज जी का , इसे स्थान देने के लिए | सपना जी भावप्रबल दोहों के लिए बधाई |

    ReplyDelete
  9. Sundar rachnayen

    Shashi ji, sapna ji

    Badhai evam shubhkamna

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    शशि जी दिल को छूने वाली कविता हेतु बधाई , सपना जी आप ने भी दोहों की सुन्दर रचना की है |आप दोनों को हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  11. आपस में बाँटे थे कितने
    चूड़ी रिब्बन के उपहार
    बिन झूले के झूलता
    ठाँव वही फिर ढूँढता
    बेचारा एकाकी मन ।
    bachpan lota diya aapki is rachna ne...hardik badhai..

    उर में गहरा जख्म हो ,दवा न दे आराम
    प्रेम पगे दो बोल ही ,करें दवा का काम
    sabhi dohe bahut achhe hain ye bahut achha laga..meri badhai...

    ReplyDelete
  12. गीत और दोहे दोनों की बहुत सुन्दर प्रस्तुति....शशि जी, सपना जी बधाई।

    ReplyDelete
  13. शशि जी को इस भावपूर्ण कविता और सपना जी को सार्थक दोहों के लिए बहुत बधाई...|

    ReplyDelete
  14. सुन्दर स्मृतियाँ संजोए ..परदेसी मन को बारम्बार नमन ...बहुत सुन्दर गीत दीदी ..बधाई !

    विविध भावों भरे सुन्दर दोहे सपना जी बहुत बधाई !

    ReplyDelete