पथ के साथी

Tuesday, December 7, 2021

1164

 डॉ.जेन्नी शबनम की क्षणिकाएँ

1.चाँद का दाग़

 


ऐ चाँद! तेरे माथे पर जो दाग़ है 

क्या मैंने तुम्हें मारा था

अम्मा कहती है -मैं बहुत शैतान थी 

और कुछ भी कर सकती थी। 

 

2- शगुन

 

हवा हर सुबह चुप्पी ओढ़ 

अँजुरी में अमृत भर 

सूर्य को अर्पित करती है 

पर सूरज है कि जलने के सिवा 

कोई शगुन नहीं देता।  

 

3- उजाला पी लूँ 

चाहती हूँ दिन के उजाले की कुछ किरणें

मुट्ठी में बंद कर लूँ
जब घनी काली रातें लिपटकर डराती हों मुझे
मुट्ठी खोल, थोड़ा उजाला पी लूँ
थोड़ी-सी, ज़िन्दगी जी लूँ।

 

4-शुभ-शुभ

 

हज़ारों उपायमन्नतेंटोटके 

अपनों ने किए ताकि अशुभ हो,  

मगर ग़ैरों की बलाएँपरायों की शुभकामनाएँ   

निःसंदेह कहीं तो जाकर लगती हैं 
वर्ना जीवन में शुभ-शुभ कहाँ से होता।  

 

5-स्त्री की डायरी

 

स्त्री की डायरी उसका सच नहीं बाँचती    

स्त्री की डायरी में उसका सच अलिखित छपा होता है  
इसे वही पढ़ सकता हैजिसे वो चाहेगी,   
भले ही दुनिया अपने मनमाफ़िक़  
उसकी डायरी में हर्फ़ अंकित कर ले।   

 

6- सुख-दुःख जुटाया है  
  

तिनका-तिनका जोड़कर सुख-दुःख जुटाया है   

सुख कभी-कभी झाँककर   

अपने होने का एहसास कराता है   

दुःख सोचता है कभी तो मैं भूलूँ उसे   

ज़रा देर वो आराम करे 
मेरे मायके की टिन की पेटी में।

-0-

13 comments:

  1. बहुत सुन्दर क्षणिकाएँ ,हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल बुधवार (08-12-2021) को चर्चा मंच          "निमित्त है तू"   (चर्चा अंक 4272)     पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य यह है कि आप उपरोक्त लिंक पर पधार करचर्चा मंच के अंक का अवलोकन करे और अपनी मूल्यवान प्रतिक्रिया से अवगत करायें।
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'   

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर क्षणिकाएँ।

    अम्मा कहती है मैं बहुत शैतान थी और कुछ भी कर सकती थी।

    मन को छू गई यह क्षणिका।

    हार्दिक बधाई आदरणीया।
    सादर

    ReplyDelete
  4. वाह,अलग अलग भाव की सुंदर क्षणिकाएँ,हर क्षणिका अपने मे विशिष्ट है ,चाँद का दाग और स्त्री की डायरी में को गहरे तक छू गईं।बधाई डॉ.जेन्नी शबनम जी।

    ReplyDelete
  5. बेहद सुंदर क्षणिकाएँ जेन्नी जी विशेषतः उजाला पी लून, शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर लेखन, हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर.... हार्दिक बधाई 🌹🙏

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  9. बहुत ही खूबसूरत

    ReplyDelete
  10. मेरी क्षणिकाओं को आप सभी का प्रेम मिला, हृदय से आभारी हूँ. मुझे यहाँ स्थान देने के लिए काम्बोज भाई की कृतज्ञ हूँ. आप सभी का स्नेह यूँ ही मिलता रहे, इसी उम्मीद के साथ आप सभी को प्रणाम.

    ReplyDelete
  11. जेन्नी जी की सभी क्षणिकाएँ एक से बढ़कर एक हैं | मन प्रसन्न हो गया पढ़कर | हार्दिक बधाई स्वीकारें |

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर, विविध भावों से परिपूर्ण रचनाएं, हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर क्षणिकाएँ...हार्दिक बधाई जेन्नी शबनम जी।

    ReplyDelete