पथ के साथी

Saturday, September 5, 2020

1027-शिक्षक -दिवस पर विशेष

 

ज्योत्स्ना प्रदीप 

1


जब घोर-अँधेरा है

गुरुवर साथ रहे 

फिर भोर-सवेरा है 

 2

तपकर संतोषी हैं   

जो  उनको दुख दे 

वो घातक  दोषी हैं !

3

तन तो बस माटी है ।

ज्ञान -बीज  भरते 

हरियाली बाँटी  है ।

4

जीवन घन-काला हैं ।

दिनकर मन कर दे 

गुरु ज्ञान -उजाला हैं ।

5

गुरुवर को हम पूजें ।

गुरु का  मान  करो

छोड़ो  झगड़े दूजे ।

6

जीवन में  तम छा

दिनकर -गुरुवर से 

किरणें हम तक आएँ

7

बाकी सब कुछ भूलें ।

पाँवो के संग-संग 

मन उनका हम छू लें !

8

पथ उनके ही चलना ।

मान करो मन से 

उनको न कभी छलना ।

9

वो वतन सदा ऊँचा ।

गुरुवर  मान करें 

महके फिर हर कूँचा !

10

बस पतन वहीं होता ।

गुरुवर को दुख दे 

वो हरपल ही रोता !

34 comments:

  1. ज्योत्स्ना जी सादर नमन ,
    आपकी रचना आज के इस पवित्र दिन पर बहुत ही सटीक और अर्थपूर्ण है| जिन शब्द भावों से आपने गुरु के प्रति आदर और श्रद्धा प्रकट की है | मन की आँखें खोलनेवाली है | बधाई की अप पात्र हैं |श्याम त्रिपाठी -हिन्दी चेतना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय भाईसाहब आपका आशीष सदा ही हम पर झरता रहे |
      हृदय-तल से आभारी हूँ आदरणीय !

      Delete
  2. गुरू -महिमा का गुणगान करते उत्कृष्ट माहिया।हार्दिक बधाई ज्योत्सना जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप सदैव हौसला बढ़ाती हैं आदरणीय दीदी,बहुत-बहुत आभार आपका!

      Delete
  3. गुरु बिन ज्ञान कहाँ से आए...! ज्योत्सना जी इस पावन पर्व पर आपके सुंदर माहिया, एक उत्कृष्ट भेंट , सभी गुरुजनों को!आपको अनेकों शुभकामनाएँ!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय-तल से धन्यवाद प्रिय प्रीति जी !

      Delete
  4. गुरु की महत्ता प्रतिपादित करते बहुत खूबसूरत माहिया । बधाई प्रिय ज्योत्स्ना जी । शुभकामनाएँ व बधाई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये स्नेह सदा बना रहे आदरणीय विभा दी.. हार्दिक आभार आपका !

      Delete
  5. ज्योत्स्ना जी गुरु महिमा का अद्भुत वर्णन किया है आपने अपने माहिया में |सच में गुरु बिन ना कोई पाता शिक्षा है और उनकी महिमा बिन चारों और जीवन में तम ही तम है | हार्दिक शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप सदैव ही मनोबल बढ़ाते हो आदरणीय सवि जी.. दिल से धन्यवाद !

      Delete
  6. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से धन्यवाद आदरणीय ओंकार जी !

      Delete
  7. वाह अप्रतिम सृजन गुरुवर के चरणों में ... वंदन अभिनन्दन

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सदा जी, मनोबल बढ़ाने के लिए दिल से शुक्रिया !

      Delete
  8. waah bahut sundar mahiya jyotsana ji badhai

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीय शशि पुरवार जी !

      Delete
  9. बहुत सुन्दर।
    शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से आभारी हूँ आदरणीय !

      Delete
  10. शिक्षक दिवस पर गुरु के महत्व को रेखांकित करते सुंदर माहिया।बधाई ज्योत्सना जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन के दिए हृदय से आभार आदरणीय !

      Delete
  11. गुरु की महिमा का बखान करते सुंदर माहिया!
    हार्दिक बधाई आदरणीया!
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रिय रश्मि जी, बहुत - बहुत शुक्रिया !

      Delete
  12. बहुत सुन्दर माहिया,मन में गुरु के प्रति अपार श्रद्धा का भाव जाग्रत करने की सामर्थ्य है इनमें ।बहुत-बहुत बधाई स्वीकारें ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. माहिया सराहने के लिए हार्दिक आभार आदरणीय सुरंगमा जी !

      Delete
  13. वाह! बहुत सुंदर माहिया।
    हार्दिक बधाई ज्योत्स्ना जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दीदी, दिल से धन्यवाद करती हूँ आपका !

      Delete
  14. सर्वप्रथम मेरे माहिया को यहाँ स्थान देने हेतु आदरणीय भैया जी का बहुत-बहुत आभार!

    ReplyDelete
  15. शिक्षक दिवस पर बहुत सुन्दर सुन्दर माहिया. बधाई ज्योत्स्ना जी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार जेन्नी जी !

      Delete
  16. हमारे जीवन में माता-पिता और गुरू के लिए जितना भी कहा जाए, कम ही लगेगा | इन खूबसूरत माहिया के लिए ज्योत्सना जी को ढेरों बधाइयाँ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से शुक्रिया प्रियंका जी !

      Delete
  17. सचमुच उम्दा माहिया। बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद प्रिय अनिता !

      Delete
  18. ये माहिया हमारे आदरणीय गुरुवर हिमांशु जी के प्रति अपार आदर,श्रद्धा और सम्मान के वो भाव हैं जो अक्सर ही उपजते रहते हैं! इन भावों ने माहिया का रूप लिया, जिन्हें आप सभी ने इतने प्यार से पढ़ा, सराहा.. . प्रभु से दुआ करती हूँ वो स्वस्थ रहें, सुकून से रहें और उनका आशीर्वाद हम पर सदा झरता रहे !

    ReplyDelete