पथ के साथी

Saturday, October 9, 2021

1143

 प्रीति अग्रवाल

1-मन दुखता है

एक शूल-सा चुभता है, मन दुखता है

जब लड़कियों के
सारे गुण एक पलड़े में, और
रूप -रंग, दूसरे में तुलता है
एक शूल- सा चुभता है, मन दुखता है।

जब दहेज की रकम
जुटाने में, दिन रात
पिता का जूता घिसता है,
एक शूल-सा चुभता है, मन दुखता है।

जब जलसों के बाहर
कूड़े के ढेर पर, जूठे पत्तल
चाटता, कोई दिखता है
एक शूल- सा चुभता है, मन दुखता है।.

कारखानों की सुलगती
भट्टी, धुँए में, जब
नन्हा बचपन, कुम्हलाता है,
एक शूल- सा चुभता है, मन दुखता है।.

महत्वाकांक्षाओं का सुनहरा जाल,
नई पीढ़ी को लुभाता है, उन्हें
जुर्म की गिरफ्त में पहुँचाता है,
एक शूल- सा चुभता है, मन दुखता है।.

शहीद दिवस पर, जवान
मैडल पाता है, और केवल वही एक सौगात,
परिवार के लिए छोड़ जाता है,
एक शूल- सा चुभता है, मन दुखता है।.

जब देश का अन्नदाता, किसान,
हमें भरपेट खिला, खुद
आँतों में घुटने दे, भूखा सो जाता है,
एक शूल- सा चुभता है , मन दुखता है।.

जब बूढ़े माँ -बाप का जोड़ा,
सब कुछ बाँटकर, खुद,
बच्चों के बीच, बँट जाता है,
एक शूल- सा चुभता है, मन दुखता है।.

जब रिश्तों के नाम पर,
खुदगर्जी और आधिपत्य का
स्वांग रचाया जाता है,
एक शूल- सा चुभता है, मनदुखता है।.

अनदेखा करने के
लाख जतन करूँ, पर हर ओर,
यही मंज़र नज़र आता है,

एक, शूल सा, चुभता है, .....और मन,
वो...... बहुत दुखता है!!
-0-.......

2- मन वासन्ती है

अब दुखते मन को, भला
ऐसे, कैसे छोड़ दूँ
जी चाहता है
इसके अंजाम को, एक
नया, हसीन मोड़ दूँ

जब बेटियों के पिता,
दहेज की जगह शिक्षा के लिए पैसे जुटाते हैं,
उनके हौसलों को पंख लगाते हैं,
एक फूल- सा खिलता है, मन तो वासन्ती है।

जब नन्हा बचपन
चिड़ियों संग चहचहाता, घंटों
तितलियों के पीछे दौड़ लगाता है,
एक फूल- सा खिलता है, मन तो वासन्ती है।

जब सरकारी योजनाएँ, 'जय जवान,जय किसान'
के नारे को, सार्थक कर जाती है,
उन्हें यथोचित सम्मान दिलाती है,
एक फूल- सा खिलता है, मन तो वासन्ती है।

निःशुल्क रसोईं, और लंगरों में,
माँ अन्नपूर्णा मुस्काती है, सब को
पोषित कर, तृष्णा मिटाती है,
एक फूल सा खिलता है, मन तो वासन्ती है।

जब औलाद जायदाद नहीं, माँ बाप के संग- साथ,
और सेवा की, हो लगाती है,
उन्हें पलकों पर बिठाती है,
एक फूल- सा खिलता है, मन तो वासन्ती है।

जब रिश्ते, प्रेम, सद्भावना, और
समर्पण की चाशनी में पग जाते हैं,
सुख के, नित, नए अनुभव, पाते हैं
एक फूल सा खिलता है, मन तो वासन्ती है।

शुरुआत मुझसे ही होगी,
बदलाव मुझे ही लाना है,
होंगे सपने साकार, यह सोच,
मुदित मन गाता है,

एक, फूल -सा खिलता है,वह मन
वह मन रोम-रोम में भीनी -भीनी खुशबू भर देता है, 
मन तो वासन्ती है!!

24 comments:

  1. एक कविता मन दुखाती तो दूसरी सहलाती! दोनों बहुत सुंदर एवं सार्थक सन्देश के साथ कि 'शुरुआत मुझसे ही होगी'! हार्दिक बधाई प्रीति जी इस सुंदर सृजन के लिए!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद अनिता जी! पहली कविता लिखी तो मेरी माँ बोली भारी मन पर मत छोड़, कुछ सकारात्मक/समाधान भी लिख सो दूसरी कविता का जन्म हुआ!:)

      Delete
  2. प्रीति अग्रवाल की दोनो कविताएँ अनूठी है,एक कविता में जहाँ सामाजिक अंतर्विरोध और विषमताओं को देखकर सचमुच मन दुखता है वहीं दूसरी कविता इन सब विषमताओं के प्रतिरोध में पहल करके खड़े होने के सकारात्मक भाव को जगाती हुई मन मे वासन्ती बयार का झोंका ले आती है।बधाई प्रीति जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आदरणीय भैया, कितना सुंदरा सार आपने लिख दिया , मेरे छोटे से प्रयास का!!.

      Delete
  3. दोनों कविता अच्छी हैं ,हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  4. प्रीति की दोनो कविताएँ सार्थक हैं। पहली कविता में दुखों से भरे जीवन के दृश्य हैं तो दूसरी कविता में मन को बसंती बनाते सुंदर अनुभव निहित हैं हार्दिक बधाई प्रीति आपको।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से धन्यवाद आपका सविता जी!

      Delete
  5. शानदार कविताएं 🙏

    ReplyDelete
  6. प्रीती जी की कविताएँ बहुत सारगर्भित हैं |दुःख और सुख का सामंजस्य बहुत कुशलता से दर्शाया गया है | पढकर मन भावुक हो गया | बहुत सुंदर भावपूर्ण रचनाएं | श्याम -हिन्दी चेतना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय भाई साहब आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए शुभाशीष! हार्दिक आभार!

      Delete
  7. दुख-सुख की भावपूर्ण अभिव्यक्ति करती दोनों अद्भुत रचनाएँ। हार्दिक बधाई प्रीति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय तल से आभार कृष्णा जी!!

      Delete
    2. हृदयतल से आभार कृष्णा जी!!

      Delete
  8. आदरणीय काम्बोज भाई साहब, पत्रिका में स्थान देने के लिए हार्दिक आभार एवम धन्यवाद!💐

    ReplyDelete
  9. शूल की चोट पर मरहम रखता मन सदा वासंती बना रहे।
    बहुत सुंदर सृजन। बधाई प्रीति जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके स्नेहिल प्रोत्सासन के लिए आभार सुशीला जी!

      Delete
  10. दुःख सुख को प्रकट करती रचनाएं। हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद आदरणीय!

      Delete
  12. जाने कितनों के भावनाओं को शब्द देती इन रचनाओं के लिए बहुत बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद प्रियंका जी!

      Delete