पथ के साथी

Monday, July 12, 2021

1123

1- भीकम सिंह

पेड़-1

 


पेड़ की बात

बड़ी बात है

पर्यावरण में

कार्बन-हरण में

और मुस्कानों  में 

 

मानव

जिन्दा है

अस्तित्व के साथ

आज -

पेड़ों की वजह से

सही मायने में  

-0-

 

पेड़-2

 

 

पेड़ बेगुनाह

मगर बन्दी हैं

दिन-माह,

वर्षों से

किसी पहाड़

अथवा

मैदान पर,

पत्तियों में बस

एक ही मलाल 

 

आँधी क़ातिल




पत्तियों को चूमा

मोड़ा

तोड़ा

टहनियों को

भरे के बाहों  में

कहीं का ना छोड़ा

फिर भी

हो ग बहाल 

-0-

 

पेड़-3

 

 

इस वर्ष

बड़ी तेजी से

लौटा है पतझड़

बसंत का

हकदार बनने

बदलने पेड़ों के खाते 

 

रोष

नाराज़गी

बेचारगी

मुस्कुराहट

ॠतुऐं सब दिखा चुकी

मौसम के नाते  

 

पेड़ों का

मन

हुआ विवश

पत्तियों ने भी

ओढ़ लिये

मुरझाए-से छाते 

-0-

 

2-कृष्णा वर्मा

1-अनोखी यात्रा


लेखनी को विश्राम नहीं

यह कैसी यात्रा

राहत का कोई निशान नहीं

भूली है क़लम आज

मंगल -कलश पर

सुखपूरित शब्दों से

स्वस्तिक रचना

पल-पल पूर रही

पीड़ा बेबसी में डूबे

विनम्र श्रद्धांजलियों- संग

ओम शांति के काले आखर

भूल गई लिखना

गुलाबी पंक्तियाँ

न छन्द, शिल्प का ख़्याल

न मात्राओं की गणना

निरंतर उडेल रही

खारी अनुभूतियों से रची

समीक्षाएँ

कैसे वाद-विवादों में आज

घेरा विक्षिप्त हवाओं ने

मरे सब मेले तमाशे

रोए आवारगी

अपनों से भयभीत हुए

हँसी ठठ्ठे -कहकहे

कौन जाने कब भरेगा

काल का उदर

कब थमेंगी कलमें

परसने से अवसाद।

-0-

2-रस्म-रिवाज़

 

किस संगदिल की मानसिकता ने

गढ़े होंगे यह रस्म-रिवाज़

शादी के नाम का ठप्पा एक अंगूठी

जिसे पहनाकर सिकोड़ दिए जाते हैं

उस नामुराद तंग दायरे में

स्त्री के ख़्वाब उसकी चाहतें उसका वजूद

कई बार नज़रों में चुभती हुई को

उतार फेंकने की चाह

यकायक कर देती है दिल को ख़ौफजदा

सहमकर स्वयं ही रुक जाता है

निगोड़ा दाया हाथ

स्त्री ने ही तो दिए स्त्री को

थरथराते कमज़ोर संस्कार

सुना-सुनाकर अपशकुनी के किस्से

इस छोटे से पिंजरे में कैसे

ख़ुद को तोड़ मरोड़कर

पूरी तरह से समाई होने को

मिटाती चलती है अपने वजूद के निशान

इस निर्जीव पत्थर जड़े छल्ले को

क्यों दे दी इतनी औक़ात

जो पल-पल याद दिलाती है

बंधन में बँधी स्त्री को उसकी औक़ात।

2

प्रत्येक परिस्थितियों के गर्भ से

लम्हा-लम्हा उगते विचारों को

सँजोती पिरोती हूँ

अमुक कथन में

तो क्यों तिरछा-सा कुछ

शूल-सा कसकता है

धुँआता है सुलगता है

भीतर अंगार- सा

साँसों की पसली पर

दुख की आप्त व्यथा

के दबाव से

घिरने लगती हूँ

सघन अंधकार में।

13 comments:

  1. भीकम सिंह जी ने पेड़ों के माध्यम से संवेदना को जीवंत कर पर्यावरण सरंक्षण का आत्यावश्यक काव्यात्मक संदेश दिया है। बधाई आदरणीय !

    कृष्णा वर्मा जी की कसक, तीस और गहन अनुभूतियों से उपजी बहुत ही मार्मिक और सुंदर कविताएँ बहुत पसंद आईं -

    कौन जाने कब भरेगा
    काल का उदर
    कब थमेंगी कलमें
    परसने से अवसाद।

    बहुत सुंदर, सार्थक सृजन के लिए बधाई आदरणीया 💐
    सुशीला शील राणा

    ReplyDelete
  2. मन को छूती दोनों कविताएँ... बहुत सुंदर एवं सार्थक! आदरणीय भीकम सिंह जी एवं कृष्णा दीदी को हार्दिक बधाई!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  3. मर्मस्पर्शी रचनाएँ; रचनाकारों को हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  4. पर्यावरण संबंधित बहुत सुंदर रचनाएँ...भीक्म सिंह जी को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचनाएँ!....भीकम सिंह जी और कृष्णा जी को हार्दिक बधाई!!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही मार्मिक रचनाएं | एक ओर वर्क्षों की विवशता और दूसरी ओर नारी की वेदना भरी कहानी पढकर आँखें गीली हो गयीं | बहुत ही सुंदर रचनाएं ! श्याम हिन्दी चेतना

    ReplyDelete
  7. भीकम सिंह जी की पर्यावरण सम्बन्धी वृक्षों पर रची सुन्दर रचनाएं हैं "लौटा है पतझड़ बसंत का हकदार बनने ..." बहुत खूबसूरत भाव निहित हैं कविता में | कृष्णा जी की वेदना उनकी कविताओं में झर रही है |दोनों को ही हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  8. भीकम जी की कविताएँ आज के बहुत गंभीर मुद्दे- पर्यावरण- पर बहुत सार्थक ढंग से लिखी गई हैं | बहुत बधाई |
    कृष्णा जी, बहुत मर्मस्पर्शी कविताएँ हैं, बहुत बधाई |

    ReplyDelete
  9. बहुत ही मार्मिक रचनाएँ।
    हार्दिक बधाई आदरणीय भीकम सिंह जी एवं आदरणीया कृष्णा वर्मा जी को।

    सादर

    ReplyDelete
  10. भीकम जी की पर्यावरण संबंधी बहुत ही सुन्दर रचनाएँ और कृष्णा जी की हृदय स्पर्शी रचनाएँ .... बहुत ही सुन्दर सृजन
    आप दोनों को हार्दिक शुभकामनाएँ एवं बधाइयाँ

    ReplyDelete
  11. बहुत भावपूर्ण मार्मिक रचनाएँँ, आप रचनाकारों को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete

  12. बहुत सुंदर व भावपूर्ण रचनाएँ!
    भीकम सिंह जी और कृष्णा दीदी को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर

    ReplyDelete