पथ के साथी

Saturday, October 13, 2018

852


कृष्णा वर्मा
1
कैसे कह दूँ कि
थक चुका हूँ ज़िंदगी से
न जाने
किस-किस का हौसला हूँ मैं।
2
चित्र :अक्षय अमेरिया 
तुम्हारे मुख मंडल पर
देख कर खुशी की तरंगें
पकड़ने लगती है रफ़्तार
मेरी जीवन कश्ती।
4
सीख भरे शब्द -बीजों से
उगाती है माँ
नन्हे हृदयों में
संस्कारों की खेती।
5
प्रेम को मिला था सुकून
जिस दिन बाँध ली थीं उसने
अपने पल्लू के छोर से
मेरे घर की चाबियाँ।
6
उम्मीद के पंछी को
लग जाएँगे हौसलों के पंख
जो मुस्कुराता रहा तुम्हारा स्पंदन
मेरी साँसों के सफ़र में।
7
उम्र भले जितनी चाहे बढ़ा दे
बस रखना ध्यान
बालक- सा रहे मन और
होने न पाए बूढ़ी कभी
मेरी मासूमियत की मुस्कान।
8
कलम की नोक
तपे शब्द लिखकर
पिघला देती है
पीड़ा का मौन।
9
मेघ निनादित
बरखा लहराई
यादों की कश्तियाँ
नैनों में तैर आईं।
10
मेघों की लाडली
बरसना सँभलके
सबके लिए तेरा आना
नहीं होता सुहाना
बहुतों की छत को तो
देना पड़ जाता है इम्तहान।
11
 दिनों-दिन उन्नति की
बढ़ती जाती रफ़्तार
दिखाए अजूबे
विकास की नैया में
बैठ लोग डूबे।
-0-

14 comments:

  1. बहुत बहुत सुंदर क्षणिकाएं
    कैसे कह दूँ कि थक चुका हूँ‌ ज़िन्दगी से...
    शानदार

    ReplyDelete
  2. अति सुंदर अभिव्यक्ति।
    कैसे कह दूँ कि थक चुका हूँ जिंदगी से.....
    सचमुच मन को छू गयी ।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर क्षणिकाएँ ! कैसे कह दूँ , सीख भरे शब्द ,जीवन कश्ती ...
    क्या कहिए सभी एक से बढ़कर एक , हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  5. आप सभी मित्रों का बहुत-बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete

  6. मेरी क्षणिकाओं को यहाँ स्थान देने के लिए आ० भाई काम्बोज जी का हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  7. Eak se badhkar eak rachna ke liye hardik badhai.

    ReplyDelete
  8. अति सुंदर क्षणिकाएँ !
    कैसे कह दूँ कि थक चुका हूँ जिंदगी से.....
    कमाल !
    हृदय-तल से बधाई आपको कृष्णा जी !

    ReplyDelete
  9. एक से बढ कर एक। बेहद ख़ूबसूरत क्षक्षिणकाएँ ।बधाई

    ReplyDelete
  10. कैसे कह दूँ कि थक चुका हूँ‌ ज़िन्दगी से...
    बहुत सुंदर व प्रेरक। सभी क्षणिकाएं सारगर्भित।

    ReplyDelete
  11. मार्मिक रचनाकर्म, हार्दिक बधाई आदरणीया कृष्णा जी।

    ReplyDelete
  12. क्षणिकाएँ , सुन्दर , हृदयस्पर्शी शब्द चित्रण । बधाई कृष्णा जी ।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर रचना है कृष्णा जी हार्दिक बधाई हो |

    ReplyDelete
  14. सभी क्षणिकाएं बहुत सुंदर हैं...

    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete