पथ के साथी

Friday, September 14, 2018

846-हिन्दी -दिवस


शृंगार है हिन्दी 
रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'
खुसरो के हृदय का उद्गार है हिन्दी ।
कबीर के दोहों का संसार है हिन्दी ।।
मीरा के मन की पीर बनकर गूँजती घर-घर ।
सूर के सागर-सा विस्तार है हिन्दी ।।
जन-जन के मानस में, बस गई जो गहरे तक ।
तुलसी के 'मानस' का विस्तार है हिन्दी ।।
दादू और रैदास ने गाया है झूमकर ।
छू गई है मन के सभी तार है हिन्दी ।।
'सत्यार्थप्रकाश' बन अँधेरा मिटा दिया ।
‘टंकारा’ के दयानन्द की टंकार है हिन्दी ।।
गाँधी की वाणी बन भारत जगा दिया ।
आज़ादी के गीतों की ललकार है हिन्दी ।।
'कामायनी' का 'उर्वशी’ का रूप है इसमें ।
'आँसू' की करुण, सहज जलधार है हिन्दी ।।
प्रसाद ने ‘हिमाद्रि’ से ऊँचा उठा दिया।
निराला की वीणा वादिनी झंकार है हिन्दी।।
पीड़ित की पीर घुलकर यह 'गोदान' बन गई ।
भारत का है गौरव, शृंगार है हिन्दी ।।
'मधुशाला' की मधुरता है इसमें घुली हुई ।
दिनकर की द्वापर* में हुंकार है हिन्दी ।।
भारत को समझना है ,तो जानिए इसको ।
दुनिया भर में पा रही विस्तार है हिन्दी ।।
सबके दिलों को जोड़ने का काम कर रही ।
देश का स्वाभिमान है, आधार है हिन्दी ।।
(*द्वापर युग को केन्द्र में रखकर लिखे दो काव्य-कुरुक्षेत्र और रश्मिरथी से दिनकर जी की विशिष्ट पहचान बनी। 'परशुराम की प्रतीक्षा' में परशुराम को भी प्रतीकात्मक रूप में लिया ।]


20 comments:

  1. एक-एक शब्द मोती, यह रचना सुन्दर माला।
    हार्दिक बधाई आपको महोदय।

    ReplyDelete
  2. हार्दिक आभार अनिता मंडा एवं कविता भट्ट जी

    ReplyDelete
  3. हिन्दी के गुणगान करती एक उत्कृष्ट रचना के लिए बधाई आपको |

    ReplyDelete
  4. पुरानी कहावत है कि "ओल्ड इज गोल्ड"| इस रचना को पढकर आपकी कल्पना की दाद देनी पड़ेगी | अब तक हिन्दी के उपलक्ष्य में लिखी हुयी रचनाओं में यह सर्वश्रेष्ठ रचना पढने को मिली | आपको हृदय से साधुवाद | लिखते रहो मेरे प्यारे भाई ! यह रचना है साहित्य के लिए बहुत बड़ी कमाई | श्याम हिन्दी चेतना

    ReplyDelete
  5. हिन्दी का गुणगान करती और जनजागरण का संदेश देती बहुत सुंदर कविता।बधाई आपको।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर कविता ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर! हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. सदैव की भाँति उत्कृष्ट लेखन, हिन्दी दिवस पर बधाई!

    ReplyDelete
  9. भारत को समझना है ,तो जानिए इसको ।
    दुनिया भर में पा रही विस्तार है हिन्दी ।।
    सबके दिलों को जोड़ने का काम कर रही ।
    देश का स्वाभिमान है, आधार है हिन्दी ।।

    बहुत सुन्दर कविता ! हिन्दी दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  10. आप सभी गुणीजन का हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  11. हिन्दी भाषा की उत्कृष्टता का बखान करती बहुत सुन्दर कविता । बधाई हिमांशु भाई ।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर कविता...सार्थक और सटीक |
    आपको बहुत बधाई...|

    ReplyDelete
  13. इतने सारे साहित्यकारों के साहित्य की विशेषता दर्शाती अत्यंत प्रभावशाली रचना. बधाई और बहुत शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सारगर्भित , उम्दा सृजन ।
    हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर रचना... सभी बड़े रचनाकारों के नाम लेकर आपने उनके प्रति अपनी श्रद्धा समर्पित की है

    ReplyDelete
  17. हिन्दी पर बहुत सुन्दर , सारगर्भित , उत्कृष्ट रचना , हार्दिक बधाई , सादर नमन आपको !

    ReplyDelete
  18. भैया
    मेरे विद्यालय में हिंदी पखवाड़े का उद्घाटन इसी कविता से हुआ । पाँचवीं कक्षा के बालक विद्वत जोशी ने पूरे हाव भाव के साथ 'शृंगार है हिंदी' काव्य पाठ किया ।

    ReplyDelete
  19. अति सुन्दर सृजन !
    आपको तथा आपकी लेखनी को सादर नमन भैया जी !!

    ReplyDelete