पथ के साथी

Saturday, April 18, 2020

972

1.प्रीति अग्रवाल
1.
ऐ दोस्त तेरे काँधे में कुछ ऐसी कशिश है
दिखते ही जी चाहे, मैं जी भर के रो लूँ!
2.
तुम तो ऐसे न थे, जो सताते मुझको
पर यादें तुम्हारी, बड़ी बैरी निकलीं!
3.
हमराज़ चुना है, हमने तुम्हीं को
ये राज़ किसी से कह तो न दोगे?
4.
गुमनामी से अभी तो यारी हुई थी
तुमने वो भी छीनी, मशहूर करके!
5.
आँखों में लाल डोरे, बोझिल- सा तन है
बीमार नहीं हूँ, बस रोने का मन है।
6.
ऐ टूटते तारे, तेरी खामोशी से याद आया
टूट था मेरा दिल भी, कुछ तेरी तरह ही!
7.
एक प्यार- भरा दिल, और वो भी टूटा हुआ,
अब गीत और ग़ज़लों के काफिले बढ़ेंगें!
8.
क़ुर्बानी सारी, औरत के हिस्से आईं
और शोहरत, 'कुर्बानी के बकरे' ने पाई!!
9.
खुद को समझा सुनार, और दाता को लुहार
अब देख! सौ सुनार की, सिर्फ एक लुहार की।
10.
आज़ादी पे कुछ दिन से पाबन्दी क्या लगी है
न चाहकर, परिंदों से, जलन हो रही है।
11.
बुझ चुकी थी आग, धुआँ तक नहीं था
अंगारे मनचले थे, सुलगने की ठानी!
12.
न जाने क्यों मंज़िल की परवाह नहीं है
हसीं है सफर, हम चले जा रहे हैं!
13.
ऐसा भी नहीं कि बिन तेरे, मर मिटेंगें
बस जीने की कोई खास, वजह न रहेगी।
14.
सोचती हूँ, बस हुआ, ये रूठना मनाना
मैं मना मना थकी, तुम रूठके न हारे।
15.
तू जानता है सब, फिर भी बुत बना खड़ा है
नाइंसाफ़ी करने वालों की, फिर ऐसी क्या ख़ता है
-०-
2-रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'
1
दूर रहकर पास आने की उम्मीद में जिए
पास आए तो दूरियाँ और गहरी हो गईं।
2
हम क्या हैं, समझाने में उम्र गुज़र गई।
ना वे समझ पाए ,न हम ही समझा सके

-0-

हाइकु
1
प्यारा अम्बर
ये था इनका घर
हमने छीना।

28 comments:

  1. 'आज़ादी पे कुछ दिन से पाबन्दी क्या लगी है,
    न चाहकर, परिंदों से, जलन हो रही है।'
    - सामयिक संकट पर सुन्दर पंक्तियाँ!

    'दूर रहकर पास आने की उम्मीद में जिए
    पास आए तो दूरियाँ और गहरी हो गईं।'
    - मानवीय संबंधों की विडम्बना को उकेरती सुन्दर पंक्तियाँ!

    दोनों कवियों को हार्दिक बधाई!

    डाॅ. कुँवर दिनेशसिंह

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी आपके प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत आभार!

      Delete
  2. सुंदर समसामयिक दोहे , बधाई ।
    रमेश कुमार सोनी , बसना

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. एक से बढ़कर एक क्षणिकाएँ! लाजवाब प्रीति जी एवं आदरणीय भैया जी! हाइकु भी बहुत सुंदर!
    बहुत-बहुत बधाई आप दोनों को!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार अनिता जी, मैं तो खुद आपकी लेखनी की बड़ी प्रशंसक हूँ!बेहद खुशी हुई कि आपको पसंद आईं!

      Delete
  5. आपके और प्रीति अग्रवाल के सुंदर अशआर और आपका हाइकु.. समस्त रचनाएँ विषय वैविध्य लिए अनेक अर्थो की व्यंजक है, आपके ही इस शेर से दोनों को बधाई दे रहा हूँ--
    हम क्या हैं समझाने में उम्र गुजर गई।
    ना वे समझ पाये, न हम ही समझा सके।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय शिव भैया, जैसे में पहले भी कह चुकी हूँ, आपकी प्रतिक्रिया अपने आप में एक सुंदर समीक्षा होती है, आप किसी के लिए भी लिखतें हैं, मुझे बहुत अच्छी लगती है,सो आप का डबल आभार!!

      Delete
  6. Preeti Ji,
    क्या कमाल कर दिया आपनी इतनी गहरी बातों से ,
    आपकी शायरी को देखकर मन बाग़ -बाग़ हो गया |
    इतनी सुंदर क्षणिकाओं के लिए हृदय से धन्यवाद |श्याम -हिन्दी चेतना

    कम्बोज जी की तो हर बात दिल से निकलती है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय भाई साहब आपने इतने सुनहरे शब्दों में मेरी रचना की सराहना की है, मेरे लिए यह किसी मैडल से कम नहीं, आपका बहुत बहुत आभार!!

      Delete
  7. बहुत सुंदर अशआर एक एक शेर मन की गहराई से निकला है। बधाई प्रीति जी।
    मैं आ.श्याम जी से सहमत हूँ कि काम्बोज जी की हर बात दिल से निकलती है” कमाल का लेखन

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से दिल को राह होती है, सो आप तक मेरी आवाज़ पहुँची! बहुत बहुत धन्यवाद सुदर्शन जी।

      Delete
  8. बहुत सुंदर सृजन। बेहतरीन प्रस्तुति... प्रीति एवं भाई काम्बोज जी आप दोनों को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कृष्णा जी, मुझे खुशी है कि आपको पसंद आईं!!

      Delete
  9. आदरणीय काम्बोज भाई साहब को मेरा नमन एवं आभार, आपके साथ एक पृष्ठ पर होना ही मेरे लिए बहुत सम्मान की बात है!!

    ReplyDelete
  10. प्रीति क्या बात है | अति सुन्दर भाव में रची रचनाएं हैं हार्दिक बधाई | काम्बोज जी को सुन्दर प्रस्तुति और हाइकु के लिए बधाई |उनका तो जवाब नहीं है |

    ReplyDelete
  11. सविता जी आपके स्नेह भरे प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत आभार!!

    ReplyDelete
  12. प्रीति जी का सुन्दर सृजन , ग़ज़ल - क्षणिकाएं दोनों ।खूब बधाई लें ।
    आ.हिमांशु भाई का सदा से,सधा हुआ संजीदा सृजन ।खूब दिली बधाई भाई जी स्वीकारें ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. विभा जी आपका हार्दिक धन्यवाद!

      Delete
  13. अति सुन्दर सृजन.... आद.भैया जी एवँ प्रीति जी को हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  14. बहुत बहुत आभार ज्योत्स्ना जी!

    ReplyDelete
  15. प्रीति जी ,ऐसा लगता है आपने सबके मन के भाव शब्दों में पिरो दिये हैं । भावों को बखूबी शब्दों में उतारना आपको खूब आता है । आदरणीय भैया जी हमेशा ही सुकोमल लिखते हैं ।

    ReplyDelete
  16. धन्यवाद सुरँगमा जी, यकीनन यह आप सब बेहतरीन लेखकों की सोबत का असर है !!

    ReplyDelete
  17. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति. उत्कृष्ट लेखन के लिए प्रीति जी और काम्बोज भाई को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  18. बहुत बहुत आभार जेन्नी जी, आपके स्नेह भरे शब्द मेंरे लिए बहुत मायनें रखतें हैं!

    ReplyDelete